Home > देश > कांग्रेस नेता डीके शिवकुमार को कोर्ट ने 17 सितंबर तक ईडी की हिरासत में भेजा

कांग्रेस नेता डीके शिवकुमार को कोर्ट ने 17 सितंबर तक ईडी की हिरासत में भेजा

कांग्रेस नेता डीके शिवकुमार को कोर्ट ने 17 सितंबर तक ईडी की हिरासत में भेजा

नई दिल्ली। कांग्रेस नेता डीके शिवकुमार को दिल्ली की राउज एवेन्यू कोर्ट ने 17 सितंबर तक ईडी की हिरासत में भेज दिया है। मनी लॉन्ड्रिंग मामले में ईडी ने उन्हें गिरफ्तार किया था। हालांकि अदालत ने ईडी को आदेश दिया है कि शिवकुमार की मेडिकल ज़रूरतों का भी ख़याल रखा जाए।

ईडी को सोमवार तक जवाब देना होगा कि शिवकुमार को जमानत क्यों नहीं दे दी जाए। उधर ईडी जहां शिवकुमार के खिलाफ हर रोज नए दावे कर रही है तो वह उसे गलत करार दे रहे हैं। अब ईडी का दावा है कि डीके शिवकुमार के 300 बैंक खाते हैं। वहीं शिवकुमार का कहना है कि उनके सिर्फ 5 बैंक खाते हैं। उन्‍होंने ईडी पर निशाना साधते हुए कहा, ईडी मुझे हॉस्‍पिटल में भी नहीं रहने दे रही। वह मुझे आधी रात को हॉस्‍पिटल से पुलिस थाने लेकर आ गई।

वहीं इस मामले में आईटी की चार्जशीट में एक और खुलासा हुआ है। इसके अनुसार, डीके शिवकुमार की ओर से कांग्रेस को 5 करोड़ रुपए दिए गए थे। ईडी की जांच में सामने आया है कि उनके कहने पर वी मुलगुंड ने कांग्रेस को 5 करोड़ रुपए की बड़ी रकम दी थी। ये पैसे दो बार में दिए गए थे। 3 करोड़ रुपए का पहला ट्रांजेक्‍शन 5 जनवरी 2017 को हुआ था। वहीं 2 करोड़ रुपए का दूसरा ट्रांजेक्‍शन 9 जनवरी 2017 को हुआ था।

इंडिया टुडे के अनुसार, दोनों बार ये पैसा वी मुलगुंड ने डीके शिवकुमार के कहने पर कांग्रेस को ट्रांसफर किया था. बता दें कि डीके शिवकुमार को कांग्रेस का संकटमोचक माना जाता है. पिछले साल हुए कर्नाटक चुनाव के बाद जब किसी दल को बहुमत नहीं मिला था तब उन्‍होंने ही अपने कौशल से कांग्रेस विधायकों को दूसरे पाले में जाने से रोका था.

अपने खिलाफ हुई इस कार्रवाई पर पूर्व मंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता डी.के. शिवकुमार ने कहा था कि उन्होंने कुछ भी गलत नहीं किया है और वह बदले की राजनीति के शिकार हाे रहे हैं। शिवकुमार इस समय प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की हिरासत में हैं। शिवकुमार ने एक ट्वीट में कहा कि मैं दोहराना चाहूंगा कि मैंने कुछ भी गलत नहीं किया है और मैं बदले की राजनीति का एक शिकार हूं। ईडी ने मनी लॉन्ड्रिंग के एक मामले में शिवकुमार से चार दिनों तक पूछताछ करने के बाद उन्हें तीन सितंबर को गिरफ्तार किया था।

Tags:    

Swadesh Digital ( 0 )

स्वदेश वेब डेस्क www.swadeshnews.in


Share it
Top