Home > Archived > भारत-फ्रांस के बीच 14 समझौतों पर हस्ताक्षर, मेक्रोन-मोदी बने गवाह

भारत-फ्रांस के बीच 14 समझौतों पर हस्ताक्षर, मेक्रोन-मोदी बने गवाह

भारत-फ्रांस के बीच 14 समझौतों पर हस्ताक्षर, मेक्रोन-मोदी बने गवाह

नई दिल्ली। भारत-फ्रांस के बीच शनिवार को ऐतिहासिक 14 समझौतों पर हस्ताक्षर हुए। फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुअल मेक्रोन और भारतीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की उपस्थिति में दोनों सरकार के अलग-अलग मंत्रालयों, एजेंसियों के बीच ये समझौते हुए। नारकोटिक ड्रग्स, मनोवैज्ञानिक पदार्थों, रासायनिक प्रीकर्सर्स और संबंधित अपराधों में अवैध आवागमन की रोकथाम के लिए भारत- फ्रांस के बीच समझौता हुआ। इस समझौते पर राजनाथ सिंह, गृहमंत्री (भारत) और जीन-यवेस ले ड्रियन, यूरोप और विदेश मामलों के मंत्री (फ्रांस) ने हस्ताक्षर किए। यह समझौते दोनों देशों में अवैध ट्रैफिक और नशीली दवाओं का इस्तेमाल करने में सहायता करेगा और आतंकवाद के वित्तपोषण पर भी प्रभाव होगा।

भारत-फ्रांस प्रवासन और गतिशीलता भागीदारी समझौता, अकादमिक योग्यता के म्युचुअल मान्यता की सुविधा के लिए भारत और फ्रांस के बीच समझौता, रेलवे के क्षेत्र में तकनीकी सहयोग पर रेलवे और एसएनसीएफ दक्षता मंत्रालय के बीच समझौता, एक स्थायी भारत-फ्रांसीसी रेलवे फोरम के निर्माण के लिए भारत और फ्रांस के बीच आशय पत्र, भारत और फ्रांस के बीच उनके सशस्त्र बलों के बीच पारस्परिक रसद समर्थन के प्रावधान के संबंध में समझौता, पर्यावरण के क्षेत्र में सहयोग के संबंध में भारत और फ्रांस के बीच समझौता (एमओयू), सशक्त शहरी विकास के क्षेत्र में सहयोग के संबंध में भारत और फ्रांस के बीच समझौता, वर्गीकृत या संरक्षित जानकारी के विनिमय और पारस्परिक संरक्षण के संबंध में भारत और फ्रांस के बीच समझौता, मैरीटाइम जागरूकता मिशन के पूर्व-निर्माण अध्ययन के लिए भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) और केंद्रीय राष्ट्रीय डी 'एट्यूंसस्पातिलेस (सीएनईएस) के बीच व्यवस्था को कार्यान्वित करना, भारत के परमाणु ऊर्जा निगम लिमिटेड और ईडीएफ, फ्रांस के बीच औद्योगिक मार्ग के आगे समझौता, जलविज्ञान और समुद्री कार्टोग्राफी के मामले में सहयोग के संबंध में भारत और फ्रांस के बीच द्विपक्षीय व्यवस्था, एक प्रक्रिया के माध्यम से स्मार्ट सिटी परियोजनाओं के वित्त पोषण के लिए 100 मिलियन यूरो के भारत और फ्रांस के बीच क्रेडिट सुविधा समझौते और नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ सोलर एनर्जी (एनआईएसई), नई और नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय और राष्ट्रीय सौर ऊर्जा संस्थान (आईएनईएस), फ्रांस के बीच समझौता हुआ।

यूरोपीय देश फ्रांस के राष्ट्रपति इमेनुअल मैक्रों शुक्रवार को अपनी आधिकारिक यात्रा पर भारत आए हैं। अपनी चार दिवसीय (9-12 मार्च) भारत यात्रा के दौरान नई दिल्ली में इंटरनेशनल सोलर एलायंस सम्मिट में हिस्सा लेने के अलावा उत्तर-प्रदेश के मिर्जापुर जाएंगे, जहां वे भारतीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ मिर्जापुर के दादरकलां गांव में 75 मेगावॉट के एनविरो सॉलितेयर सोलर प्लांट का उद्घाटन करेंगे। मिर्जापुर से मेहमान राष्ट्रपति बनारस जाएंगे, जहां काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के पंडित दीनदयाल उपाध्याय हस्तकला स्कूल जाएंगे। इसके बाद वे बनारस के विख्यात अस्सी घाट जाएंगे और समय बिताएंगे। मैक्रों नाव द्वारा गंगा में घूमेंगे। इस दौरान वे गंगा सफाई अभियान और काशी के घाटों पर स्वच्छता अभियान के परिणामों को देखेंगे। शाम को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी मेहमान राष्ट्रपति और उनकी पत्नी के सम्मान में बनारस में ही स्वागत-भोज देंगे।

Share it
Top