Home > Archived > प्रेरणा संवाद में बोले शिवराज लक्ष्य पाने के लिए बनना होगा महाभारत का अर्जुन

प्रेरणा संवाद में बोले शिवराज लक्ष्य पाने के लिए बनना होगा महाभारत का अर्जुन

प्रेरणा संवाद में बोले शिवराज लक्ष्य पाने के लिए बनना होगा महाभारत का अर्जुन

भोपाल। 'लक्ष्य तय करो और उसे पाने के लिए दृढ़ता के साथ आगे बढ़ो।' लक्ष्य तय करो तो उसको प्राप्त करने के लिए दृढ़ निश्चय कर आगे बढ़ो। जीवन में लक्ष्य की प्राप्ति के लिए आपको महाभारत के अर्जुन जैसा बनना होगा, तभी सफलता मिलेगी।' उक्त वाक्य प्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान ने स्टूडेंट्स से कहे। वह शनिवार को शासकीय मॉडल स्कूल, टी.टी. नगर में विद्यार्थियों से प्रेरणा संवाद कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। इस संवाद कार्यक्रम में कक्षा 10वीं से 12वीं तक के स्टूडेंट्स शामिल हुए।

उन्होंने बच्चों को संबोधित करते हुए कहा कि 'सफलता का प्रथम और महत्वपूर्ण सूत्र आत्मविश्वास है। अनुशासन से रहो, सफलता के लिए लक्ष्य तय करो। इस तरह तुम जीवन में जिस ऊंचाई तक पहुंचना चाहते हो पहुंच जाओ।' उन्होंने कहा कि 'लक्ष्य तय करो तो उसको प्राप्त करने के लिए दृढ़ निश्चय कर आगे बढ़ो। जीवन में लक्ष्य की प्राप्ति के लिए आपको महाभारत के अर्जुन जैसा बनना होगा, तभी सफलता मिलेगी। मेरा सपना है कि मध्यप्रदेश में कुटीर व लघु उद्योगों के जाल बिछाना, जिसे मैं ऊर्जावान युवाओं के माध्यम से पूरा करना चाहता हूं।'

इससे पहले 15 जनवरी से 30 जनवरी तक सभी जिलों के स्कूलों में प्रेरणा संवाद कार्यक्रम आयोजित किया जा चुका है। शनिवार को टीटी नगर स्थित शासकीय मॉडल स्कूल में प्रेरणा संवाद को संबोधित करते हुए सीएम ने कहा कि मुख्यमंत्री युवा उद्यमी योजना के तहत 10 लाख से लेकर 02 करोड़ रुपए तक का लोन बैंक देगी, लेकिन गारंटी की बात आई, तो हमने गारंटी ली, साथ ही 15 प्रतिशत अनुदान भी देंगे, 07 साल तक 05 प्रतिशत ब्याज भी सरकार भरेगी, बेटियों के मामले में 06 प्रतिशत ब्याज है।

छात्रा के सवाल पर बोले शिवराज

इस प्रेरणा संवाद में स्टूडेंट्स ने सीएम शिवराज से अपने मन की उलझन भी साझा की। जिन्हें सीएम ने आसानी से सुलझाया। एक स्टूडेंट ने सीएम से पूछा कि बच्चों के लिए खेल के मैदान नहीं है, जबकि खेल बेहद जरूरी है, इस दिशा में वे क्या कर रहे हैं। इस प्रश्न के जवाब में सीएम ने कहा कि बच्चों के जीवन में खेल का महत्व है, इसलिए पढ़ने के साथ खेल में भी वे शामिल हों, साथ ही माता-पिता से कहना चाहता हूं कि बच्चों को रटने वाला तोता न बनाकर स्वाभाविक विकास होने दें। मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य की बेहतरी के लिए खेल एक उत्तम साधन है। हर बच्चे और उनके माता-पिता को चाहिए कि बच्चे पढ़ाई के साथ खेल के लिए भी उचित समय निकालें।

इन नई सुविधाओं का किया शुभारंभ

प्रेरणा संवाद के अवसर पर सीएम शिवराज सिंह चौहान ने एमपी. कॅरियर मोबाइल ऐप और विमर्श पोर्टल सहित अन्य योजनाओं का शुभारंभ किया।

जानें क्या है एम.पी. कॅरियर मोबाइल एप

एम.पी. कॅरियर मोबाइल एप स्टूडेंट्स की अभिरुचि के परीक्षण के लिये तैयार किया गया है। इससे स्टूडेंट्स जान सकेंगे कि उनकी रुचि किस विषय में ज्यादा है, ताकि उन्हें यह समझने में मदद मिले कि वे आगे किस क्षेत्र में अध्ययन कर सकते हैं। स्टूडेंट्स की अभिरुचि परीक्षण रिपोर्ट के आधार पर पालकों एवं स्टूडेंट्स की काउंसिलिंग भी की जाएगी। कक्षा 10वीं के विद्यार्थियों का अभिरुचि परीक्षण फरवरी में किया जाएगा।

ये है विमर्श पोर्टल

स्टूडेंट्स, टीचर्स एवं स्कूल को अकादमिक दृष्टि से सुदृढ़ बनाने के लिए सीएम ने प्रेरणा संवाद कार्यक्रम में विमर्श पोर्टल का शुभारंभ किया। इस पोर्टल के माध्यम से विद्यार्थी अपनी जिज्ञासाओं और समस्याओं को साझा कर एक्सपट्र्स से उनके समाधान प्राप्त कर सकेंगे। पोर्टल पर स्टूडेंट्स के लिए महत्वपूर्ण विषयों के वीडियो, मेरिट में आने वाले स्टूडेंट्स की आंसरशीट्स, पिछले वर्षों के प्रश्न पत्र, मॉडल टेस्ट पेपर्स भी आसानी से उपलब्ध होंगे।

इस पोर्टल के माध्यम से स्टूडेंट्स किसी भी विषय-वस्तु को आसानी से समझ सकेंगे। टीचर्स की ओर से किए जा रहे नवाचारों एवं अध्यापन में आ रही समस्याओं को चिह्नित कर पोर्टल पर विशेषज्ञों के साथ साझा किया जा सकेगा। इसके साथ ही स्कूल अपना मूल्यांकन प्रति माह करेंगे। इसमें मूल्यांकन और परि-सम्पत्तियों की तुलना में छात्रों के गुणात्मक विकास को प्राथमिकता दी गई है। वर्ष में दो बार इसका बाह्य मूल्यांकन भी किया जाएगा।

Share it
Top