Home > Archived > सऊदी अरब ने बढ़ाया हज के लिए भारत का कोटा, जा सकेंगे पौने दो लाख यात्री

सऊदी अरब ने बढ़ाया हज के लिए भारत का कोटा, जा सकेंगे पौने दो लाख यात्री

सऊदी अरब ने बढ़ाया हज के लिए भारत का कोटा, जा सकेंगे पौने दो लाख यात्री

नई दिल्ली। केंद्र सरकार ने लगातार दूसरे साल भी भारत के हज कोटे में बढ़ोतरी की है और आजादी के बाद पहली बार भारत से रिकॉर्ड 1 लाख 75 हजार 025 हज यात्री हज 2018 के लिए जायेंगे। केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने मंगलवार को यहां बताया कि तीन साल पहले कांग्रेस शासन में भारत का हज कोटा 1 लाख 36 हजार 20 था जो पिछले 2 वर्षों में रिकॉर्ड बढ़ोतरी के साथ 1 लाख 75 हजार 25 हो गया है। उन्होंने कहा कि यह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की बढ़ती लोकप्रियता और उनके नेतृत्व में सऊदी अरब सहित अन्य अरब देशों के साथ भारत के मधुर एवं मजबूत होते संबंधों का नतीजा है।

नकवी ने भारत के कोटे में बढ़ोतरी किये जाने के लिए दो पवित्र मस्जिदों के सरबरा सऊदी अरब के किंग हिज़ एक्सेलेंसी सलमान बिन अब्दुल अज़ीज़ अल सऊद एवं सऊदी अरब की सरकार को भारत सरकार एवं यहां के लोगों की तरफ से धन्यवाद दिया। पिछले दिनों सऊदी अरब के मक्का में नकवी एवं सऊदी अरब के हज एवं उमरा मंत्री हिज़ एक्सेलेंसी डॉ. मुहम्मद सालेह बिन ताहेर बेन्तेन के द्वारा हज 2018 के सम्बन्ध में द्विपक्षीय समझौते पर हस्ताक्षर किये जाने के बाद भारत के हज कोटे में बढ़ोतरी का यह निर्णय आया है। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि सऊदी अरब ने भारत का हज कोटा 2017 में बढ़ा कर 1 लाख 70 हजार 25 कर दिया था।

नकवी ने कहा कि इसके अलावा भारत से पानी के जहाज के द्वारा हज यात्रा को भी सऊदी अरब की सरकार ने हरी झंडी दे दी है और दोनों देशों के सम्बंधित अधिकारी आवश्यक औपचारिकताओं व तकनीकी पहलुओं पर काम शुरू करेंगे ताकि आने वाले वर्षों में हज यात्रा को पानी के जहाज से भी दोबारा शुरू किया जा सके। अल्पसंख्यक कार्य मंत्री ने कहा कि हज 2018 के लिए लगभग 3 लाख 55 हजार आवेदन प्राप्त हुए हैं। भारत से पहली बार मुस्लिम महिलाएं बिना ‘मेहरम’ (पुरुष रिश्तेदार) के हज पर जाएंगी। 1300 से ज्यादा महिलाओं ने बिना 'मेहरम' हज पर जाने के लिए आवेदन किया है और इन सभी को लॉटरी सिस्टम से बाहर रख कर हज पर जाने की व्यवस्था की जाएगी। नई हज नीति के तहत 45 वर्ष से अधिक की उम्र की महिलाएं 4 या ज्यादा के समूह में बिना ‘मेहरम’ हज पर जा सकती हैं।

Share it
Top