Home > Archived > रोप-वे निर्माण को लेकर संचालक व निगमायुक्त पर नाराज हुए केन्द्रीय मंत्री यदि काम शुरू किया होता तो दिखाई देता

रोप-वे निर्माण को लेकर संचालक व निगमायुक्त पर नाराज हुए केन्द्रीय मंत्री यदि काम शुरू किया होता तो दिखाई देता

रोप-वे निर्माण को लेकर संचालक व निगमायुक्त पर नाराज हुए केन्द्रीय मंत्री यदि काम शुरू किया होता तो दिखाई देता

-सभी कार्य युद्ध स्तर पर और गुणवत्ता के साथ करने के दिए निर्देश

-साढ़े तीन घण्टे तक अधिकारियों को साथ लेकर निरीक्षण करते रहे तोमर


ग्वालियर, न.सं.। अगर आप लोगों ने काम शुरू कर दिया होता तो आज दिखाई देता। यह बात शुक्रवार को केन्द्रीय ग्रामीण विकास मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने फूलबाग से किले तक बनाए जाने वाले रोप-वे निर्माण को लेकर दामोदर कम्पनी के संचालक नरेश गुप्ता से नाराजगी व्यक्त करते हुए कही। इससे पूर्व श्री तोमर ने मोती महल परिसर में स्मार्ट सिटी कमांड कंट्रोल रूम के लिए जगह देखी।

शुक्रवार को अपरान्ह साढ़े तीन बजे केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर अधिकारियों को साथ लेकर निरीक्षण करने निकल पड़े। इस दौरान निगमायुक्त सहित अन्य अधिकारियों के माथे पर पसीना आने लगा। निरीक्षण में केन्द्रीय मंत्री श्री तोमर ने स्वदेश दर्शन योजना व हैरीटेज सर्किट सहित शहर में चल रहे अन्य विकास कार्यों का जायजा लिया। उन्होंने किले पर पहुंचने के दौरान रोप-वे निर्माण में की जा रही देरी पर नाराजगी जताते हुए निगमायुक्त विनोद शर्मा को शनिवार को सुबह से मौके पर झाड़ियां हटाने और खुदाई का काम शुरू कराने के निर्देश दिए। निरीक्षण में महापौर परिषद के सदस्य धर्मेन्द्र सिंह तोमर एवं पार्षद दिनेश दीक्षित की ठेकेदारी फर्म दामोदर रोप-वे के संचालक नरेश गुप्ता से अपनी नाराजगी को सही ठहराकर उन्हें दीपावली से पहले ट्रायल पोजीशन बनाने के निर्देश दिए। इससे पहले उन्होंने किले की चढ़ाई पर स्थित चैकपोस्ट वाले रास्ते में पार्क डवलप करने की सलाह दी, साथ ही जहांगीर महल में होटल बनाने और झिलमिल गेट से नया रास्ता बनाने जैसी संभावनाओं का बारीकी से निरीक्षण किया। श्री तोमर ने इससे पहले राजा मानसिंह तोमर चौराहा, निमार्णाधीन पड़ाव आरओबी आदि कार्य भी देखे। इन कार्यों के निरीक्षण के दौरान केन्द्रीय मंत्री श्री तोमर ने निर्देश दिए कि सभी कार्य गुणवत्ता के साथ और युद्ध स्तर पर पूर्ण करें। इस अवसर पर भाजपा जिलाध्यक्ष देवेश शर्मा, स्मार्ट सिटी सीईओ महिप तेजस्वी, लोक निर्माण विभाग के कार्यपालन यंत्री एम.एस. जादौन, प्रदीप अष्टपुत्रे, जी.बी. मिश्रा, पवन सिंघल, सतेन्द्र यादव, वीरेन्द्र शाक्य सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

150 दर्शक एक साथ देख सकेंगे कार्यक्रम

रोप-वे के बाद जब केन्द्रीय मंत्री श्री तोमर बारादरी पहुंचे तो वहां पर अधिकारियों से साफ पानी लाने की जानकारी ली। इस पर निगमायुक्त ने इटालियन गार्डन से एसटीपी लगाकर बैजाताल व बारादरी को पानी देने की जानकारी दी, साथ ही बताया कि यहां छतों पर 150 दर्शक बैठकर कार्यक्रम देख सकेंगे।

मोतीमहल में बनेगा स्मार्ट सिटी कमांड कंट्रोल रूम

निरीक्षण के दौरान केन्द्रीय मंत्री श्री तोमर ने मोती महल में स्मार्ट सिटी का कमांड कंट्रोल रूम व कार्यालय स्थापित करने के लिए पशुपालन विभाग के हॉल को सबसे ठीक पाया, साथ ही वहां पर्यटन विभाग द्वारा प्रस्तावित कार्ययोजना को पुराने आरटीओ कार्यालय की बिल्डिंग में स्थानांतरित करने पर सहमति बनाने के निर्देश दिए।

पुराने पत्थरों को नहीं हटाएंगे, पॉलिश करेंगे

मोती महल परिसर के निरीक्षण करने के बाद केन्द्रीय मंत्री श्री तोमर बैजाताल पहुंचे, जहां चल रहे विकास कार्यों के बारे में जानकारी ली। निगामयुक्त विनोद शर्मा ने बताया कि यहां पर जो भी पुराने पत्थर मजबूत हैं, उन्हें हटाया नहीं जाएगा, बल्कि उन पर पॉलिश कराई जाएगी।

रैलिंग अधूरी होने पर अधिकारी बोले, बजट खत्म हो गया

निरीक्षण के दौरान जब केन्द्रीय मंत्री श्री तोमर महारानी लक्ष्मीबाई समाधि स्थल के पास पहुचे तो वहां पर जल भराव था, साथ ही रैलिंग अधूरी थी। इस पर उन्होंने पर्यटन विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए कि समाधि स्थल पर लगे खम्बों को बदलो और पर्यटन रेस्ट हाउस को ठीक कराओ। इस पर अधिकारियों ने श्री तोमर को बताया कि 1.5 करोड़ का बजट खत्म होने कारण रैलिंग का कार्य अधूरा रह गया है।

Share it
Top