Home > Archived > घर के जिस स्थान में वास्तुदोष हो उस स्थान पर बनाएं स्वास्तिक

घर के जिस स्थान में वास्तुदोष हो उस स्थान पर बनाएं स्वास्तिक

घर के जिस स्थान में वास्तुदोष हो उस स्थान पर बनाएं स्वास्तिक

घर का निर्माण वास्तु के अनुसार ही किया जाना चाहिए। वास्तु अनुसार किए गए निर्माण से आपके घर में हमेशा सकारात्मक ऊर्जा का प्रभाव बना रहता है और नकारात्मक ऊर्जा घर से दूर रहती है। अगर घर में सकारात्मक ऊर्जा का वास हो तो घर में प्रसन्नता और शांति का माहौल बना रहता है।

सकारात्मक ऊर्जा हमेशा आपके घर में बनी रहे इसके लिए घर की दक्षिण दिशा के वास्तु को सही रखना आवश्यक होता है। क्योंकि अगर उत्तर से दक्षिण दिशा की ओर बने हुए भवन में दक्षिणी भाग खाली पड़ा हो तो यहां वास्तु दोष उत्पन्न हो सकता है। इस दोष के कारण भू स्वामी को कारोबार और व्यापार में नुकसान हो सकता है, परिवार में तनाव का माहौल रहता है।

ऐसे में अगर आपको इस वास्तु दोष से बचना है तो कभी भी अपने घर के दक्षिण दिशा में बने स्थान को खाली न छोड़ें, उस स्थान पर कुछ न कुछ अवश्य रखें। वहीं अगर इस स्थान पर कुछ रख पाना संभव न हो तो यहां बनी दीवार पर स्वास्तिक का चिन्ह बना दें। स्वास्तिक का चिन्ह बनाने से इस दिशा में वास्तुदोष उत्पन्न नहीं होगा।

Share it
Top