Home > Archived > जेईई मेन्स ऑफलाइन परीक्षा में अब निशक्तजनों को बतौर सहायक 10वीं की जगह 11वीं कक्षा के स्टूडेंट्स मिलेंगे

जेईई मेन्स ऑफलाइन परीक्षा में अब निशक्तजनों को बतौर सहायक 10वीं की जगह 11वीं कक्षा के स्टूडेंट्स मिलेंगे

जेईई मेन्स ऑफलाइन परीक्षा में अब निशक्तजनों को बतौर सहायक 10वीं की जगह 11वीं कक्षा के स्टूडेंट्स  मिलेंगे

जयपुर। सीबीएसई की ओर से होने वाली जेईई मेन्स ऑफलाइन परीक्षा में अब निशक्तजनों को 10वीं कक्षा की जगह 11वीं क्लास के साइंस मैथ्स के स्टूडेंट्स बतौर सहायक मिलेंगे। इससे पहले जेईई मेन्स के इनफॉरमेशन ब्रोशर में 10वीं क्लास के सहायक देने का प्रावधान था। इस प्रकार पहले मेन्स के एग्जाम में दृष्टिबाधित को ही निशक्त माना गया था। अब इसमें भी बदलाव कर दिया गया है।


डिस्लेक्सिया, हाथों की अंगुली नहीं होने पर, ऊपरी लिंब्स में परेशानी होने वालों को भी निशक्त माना गया है। इनको भी सहायक उपलब्ध कराए जाएंगे। इसके लिए निशक्त को एग्जाम से 2 दिन पहले सेंटर पर रिपोर्ट करके सहायक की मांग करनी होगी।

सेंटर अधीक्षक 11वीं क्लास के किसी स्टूडेंट की व्यवस्था करेगा। निशक्तजनों को 1 घंटा अतिरिक्त मिलेगा। साल डायबिटिक स्टूडेंट्स भी मेडिसिन व खाने की चुनिंदा वस्तुएं ले जा सकते हैं।

Share it
Top