Home > Archived > लेनदारों ने कोहीनूर इण्डस्ट्री कब्जे में ली

लेनदारों ने कोहीनूर इण्डस्ट्री कब्जे में ली

लेनदारों ने कोहीनूर इण्डस्ट्री कब्जे में ली

-रातभर चला हंगामा, चोरी छिपे निकाला जा रहा था माल

ग्वालियर। गिरवाई क्षेत्र के बड़े तिली कारोबारी कोहीनूर इण्डस्ट्री के लेनदार व्यापारियों और हुण्डी दलालों ने फैक्ट्री को अपने कब्जे में लेकर वहां अपने आदमी तैनात कर दिए हैं। फैक्ट्री संचालक सागर कुकरेजा अभी तक सामने नहीं आया है, लेकिन उसकी मां के इस आश्वासन कि एक दो दिन में उनके देवर मुम्बई से आकर मामला निपटवा देंगे, पर व्यापारी कुछ शांत हुए हैं। वहीं देर रात चोरी छिपे फैक्ट्री से माल गाड़ियों में लोडकर ले जाने पर हंगामा हुआ। व्यापारियों ने एक गाड़ी पंचर कर वहीं रूकवा ली।

उल्लेखनीय है कि मोटा मुनाफा कमाने के फेर में कोहीनूर इण्डस्ट्री संचालक सागर कुकरेजा ने बैंक और हुण्डी दलालों के माध्यम से लगभग 11 करोड़ रुपया ब्याज पर ले लिया। लेकिन समय सीमा पूर्ण होने पर वह लेनदारों को टकराने लगा तो यह सभी एकजुट होकर विरोध पर उतर आए तब सागर के रिश्तेदार अमर माखीजा बीच में आकर मामला निबटाने की बात करने लगा, इसके लिए उसने सात्विक रेस्टॉरेंट नई सड़क पर बैठक बुलाई किन्तु वह फैल रही। व्यापारियों ने साफ कह दिया कि उन्हें अमर पर भरोसा नहीं, वे तो सीधे सागर से बात करेंगे, लेकिन सागर सामने नहीं आया तो व्यापारी उसके समाधिया कॉलोनी के घर और फैक्ट्री पर जा पहुंचे। रात में फैक्ट्री पर नजारा यह था कि माल लोडिंग वाहनों में भरकर ले जाया जा रहा है, इस पर व्यापारियों ने दो गाड़ियां रोककर उन्हें पंचर कर दिया। उधर समाधिया कॉलोनी में लेनदारों ने हंगामा किया तो अमर इन लोगों से झगड़ने लगा। इतना ही नहीं एक लेनदार शंकरलाल नरवानी के खिलाफ वह सागर की मां को लेकर जनकगंज थाने में जा पहुंचा, इस पर पुलिस ने शंकरलाल को ही धर लिया, जिसे सुबह जाकर छोड़ा गया। इसके बाद व्यापारी एकजुट हुए और सागर के घर के बाहर तम्बू लगाकर धरना देने की तैयारी हुई, लेकिन समाज को पंचायत के लोगों ने ऐसा करने से रोक दिया। लेकिन फैक्ट्री को अपनी निगरानी में लेकर वहां बारी-बारी से नजर रखने के लिए आदमियों की ड्यूटी लगाई गई है। साथ ही सागर के चाचा के ग्वालियर आने तक मामला आगे बढ़ा दिया गया है।

अमर की गिरफ्तारी की होगी मांग

हुण्डी दलाल किशोर का कहना है कि माधवगंज थाने में अमर माखीजा और उसके परिजनों के खिलाफ धारा 376 का मामला दर्ज है। उसकी गिरफ्तारी की मांग के लिए हम सब एसपी से मुलाकात करेंगे। उनका कहना है कि तिली कारोबारी सब मिले हुए हैं, हमारा व्यापार नोटबंदी और जीएसटी के कारण मात्र 10 फीसदी रह गया है।

Share it
Top