Home > Archived > हिमाचल के मंडी हादसे में दूसरे दिन भी रेस्क्यू आॅपरेशन जारी, 46 शव बरामद

हिमाचल के मंडी हादसे में दूसरे दिन भी रेस्क्यू आॅपरेशन जारी, 46 शव बरामद

हिमाचल के मंडी हादसे में दूसरे दिन भी रेस्क्यू आॅपरेशन जारी, 46 शव बरामद

शिमला। मंडी जिले के कोटरूपी में पठानकोट-मंडी राष्ट्रीय राजमार्ग पर पहाड़ी दरकने की घटना में प्रशासन, एनडीआरएफ और सेना का संयुक्त बचाव अभियान सोमवार दूसरे दिन भी जारी है। बचाव कर्मी मलबे में दबे लोगों की तलाश कर रहे हैं। बीती रात बारिश और अंधेरे की वजह से बचाव अभियान रोक दिया गया था, लेकिन सोमवार को तड़के इसे फिर शुरू कर दिया गया।

मंडी के उपायुक्त संदीप कदम ने बताया कि घटनास्थल से अब तक 46 शव निकाले जा चुके हैं, जिनमें 27 की पहचान कर ली गई है। चंबा से मनाली जा रही बस के 23 यात्रियों और मनाली से कटड़ा जा रही बस के तीन मृतक यात्रियों की शिनाख्त हुई है जबकि एक मृतक बाइक सवार बताया जाता है। इस हादसे में मृतकों की तादाद बढ़ने की आशंका है।

घटना के बाद इलाके के लोग भी प्रशासन की मदद कर रहे हैं और वहां आने वाले लोगों को भोजन व अन्य जरूरी सामग्री उपलब्ध करा रहे हैं। मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने घटनास्थल पर पहुंचकर हालात का जायजा लिया था। उन्होंने सरकार की तरफ से प्रत्येक मृतक के परिजनों को पांच लाख की राहत राशि देने की घोषणा की है।

शनिवार मध्यरात्रि कोटरूपी में पहाड़ दरकने से राज्य पथ परिवहन निगम की दो बसों समेत अन्य कई निजी वाहन मलबे में दब गए थे। पहाड़ से आए सैलाब में निगम की चंबा से मनाली जा रही बस लगभग एक किलोमीटर नीचे तक बह गई थी। कई घंटों की मशक्कत के बाद बचाव दल इस बस को खोज निकालने में सफल हुआ।

ये हादसा राज्य का तीसरा बड़ा हादसा है। इससे पहले सन् 1988 में शिमला जिले के मतियाना में भूस्खलन में 45 यात्रियों की मौत हुई थी जबकि 1994 में कुल्लू जिले के लुग्गड़हट्टी में एक हादसे में 42 यात्री मारे गए थे।

Share it
Top