Top
Latest News
Home > Archived > ड्रग्स के दलदल में आसानी से फंस जाते हैं हाई-प्रोफाइल लोग

ड्रग्स के दलदल में आसानी से फंस जाते हैं हाई-प्रोफाइल लोग

ड्रग्स के दलदल में आसानी से फंस जाते हैं हाई-प्रोफाइल लोग

ड्रग्स के धंधे से जल्दी और आसान तरीके से करते हैं करोड़ों की कमाई

नई दिल्ली। हाल में एक खबर आई कि सपा के वरिष्ठ नेता अबू आजमी के एक भतीजे को ड्रग्स तस्करी के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। अकेले अबू असलम कासिम आजमी ही क्यों, पिछले कुछ समय में बॉलीवुड अभिनेत्री ममता कुलकर्णी, मॉडल दर्शितमिता गौड़ा, अपूर्व अग्निहोत्री, फरदीन खान, राहुल महाजन, डीजे अकील, विजय राज और संजय दत्त जैसे कई हाई प्रोफाइल लोग इस ड्रग्स के खेल में फंस चुके हैं।

क्या कारण है कि हाई प्रोफाइल लोग ड्रग्स के खेल में फंस जाते हैं

सबसे पहले बात अबू असलम कासिम आजमी की। अबू आजमी के इस भतीजे के बारे में खबर है कि उसने सात साल पहले ड्रग्स तस्करी की दुनिया में कदम रखा था। इसके लिए उसने अंतरराष्ट्रीय ड्रग्स तस्कर कैलाश राजपूत से हाथ मिलाया और कुछ ही समय में मुंबई सहित पूरे देश में ड्रग्स तस्करी का नेटवर्क तैयार करके उसका माफिया बन गया। अबू असलम को दुबई में मौजूद कैलाश राजपूत से बड़े पैमाने पर म्याऊ-म्याऊ ड्रग्स से लेकर आइस ड्रग्स की सप्लाई होती थी। इसके बाद अबू असलम अपने साथियों के साथ मिलकर इस ड्रग्स को भारत के विभिन्न हिस्सों में सप्लाई करता था। इस गोरखधंधे में मिल रही सफलता से अबू असलम फूला नहीं समा रहा था और धीरे-धीरे उसका यह सिंडिकेट अंतरराष्ट्रीय रूप लेने लगा।

कमाई का आसान रास्ता है ड्रग्स

वरिष्ठ पत्रकार शीला रावल ने अंडरवर्ल्ड और क्राइम को लेकर खासा काम किया है। उन्होंने इस मामले में कहा कि ड्रग्स काला सोना है। जो लोग इसका धंधा करते हैं उनके लिए यह जल्दी और आसान तरीके से कमाई करने का साधन है। उनका मानना है कि कोई भी व्यक्ति ड्रग्स की दुनिया में भले ही जितना बड़ा हो जाए, असल में वह ड्रग्स की इस काली दुनिया का छोटा सा अंग ही होता है। शीला बताती हैं कि ज्यादातर हाईप्रोफाइल लोग ड्रग्स के धंधे में नहीं, बल्की ग्राहक के तौर पर इसमें फंसते हैं। उन्होंने ममता कुलकर्णी का जिक्र करते हुए कहा कि उनके बारे में कह नहीं सकते, लेकिन उनके सहयोगी विकी गोस्वामी जरूर ड्रग्स का धंधा करते थे।

लाइफस्टाइल भी एक कारण

हाईप्रोफाइल लोगों का लाइफस्टाइल उन्हें ड्रग्स की दलदल में धकेल देता है। जिन लोगों का आत्मबल थोड़ा भी कमजोर होता है, या जो भावुक होते हैं वे बड़ी आसानी से इसका शिकार बन जाते हैं। देर रात तक पार्टियां और सबसे आगे बने रहने का दबाव, कब उन्हें ड्रग्स के दलदल में धकेल देता है पता ही नहीं चला। ऐसे हाईप्रोफाइल लोगों के पास रुपयों की कमी तो होती नहीं, इसलिए ड्रग्स आसानी से मिल भी जाती है। ग्लैमर की दुनिया के लोग हमारे और आपकी तरह साधारण सामाजिक जीवन नहीं जी पाते हैं। वे हमारी तरह कहीं भी यूं ही नहीं निकल पाते। उनकी प्राइवेट जिंदगी लगभग खत्म हो जाती है, इससे उनके अंदर अकेलापन घर करने लगता है। जिन लोगों का अपने ऊपर कंट्रोल नहीं है, वे लोग ही ड्रग्स के दलदल में ज्यादा फंसते हैं। जिन लोगों का सामाजिक जीवन अच्छा होता है, जो लोगों से मिलते-जुलते हैं वे इसमें कम फंसते हैं।

Next Story
Share it
Top