Home > Archived > शराब ठेकेदारों ने निकाला नया रास्ता, हाईवे से हटे तो खेतों और खुली जमीन पर जमे

शराब ठेकेदारों ने निकाला नया रास्ता, हाईवे से हटे तो खेतों और खुली जमीन पर जमे

इंदौर। पूरे शहर में खुली शराब दुकानों का विरोध तो हो ही रहा है। उधर अब ग्रामीण क्षेत्रों में शराब दुकानों का विरोध शुरू हो गया है। वहीं हाईवे दुकानों को खोलने के लिए संचालकों ने नया रास्ता खोज निकाला है जिसके चलते खेतों व खुली पड़ी जमीनों पर शराब दुकानें खोली जा रही हैं जिसका अब ग्रामीण क्षेत्रों में भी तेजी से विरोध होने लगा है।

ग्रामीण क्षेत्रों की महिलाएं अब सड़क पर निकलकर इन दुकानों को बंद कराने के लिए निकलेंगी और जिन खेतों में दुकान खुलने लगी है उनके मालिकों से भी दुकानें बंद करवाने के लिए मांग की जाएगी।

पिछले दिनों इंदौर में खुली शराब दुकानों का जगह-जगह विरोध होने के बाद भी प्रशासन द्वारा इस मामले में कोई ध्यान नहीं दिया गया जिसके कारण अभी भी जिन-जिन दुकानों का विरोध हो रहा है वह दुकानें खुल रही हैं लेकिन अब यह विरोध का असर ग्रामीण क्षेत्रों में भी पहुंचने लगा है क्योंकि सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के बाद हाईवे की 500 मीटर की दूरी तक की दुकानों को हटाने के निर्देश जारी किए जिसके चलते शासन ने हाईवे की दुकानों को हटा दिया है लेकिन दुकान संचालकों ने नया तरीका खोज निकाला है और वे देहात क्षेत्र में खुली जमीनों व खेतों में दुकानें खोलने लगे हैं। ग्रामीणवासियों ने भी अब विरोध शुरू कर दिया है।

सांवेर क्षेत्र के एक खेत में खुल रही दुकानों के विरोध में महिलाएं सड़क पर आने की तैयारी कर रही हैं ताकि उस क्षेत्र को भी शराब दुकानों से मुक्ति मिल सके। महिलाओं ने अपना आंदोलन तेज करने की तैयारी कर ली है और जल्द ही ग्रामीण क्षेत्रों में शराबबंदी लागू करने के लिए अधिकारियों से भी मिलकर मांग करेंगे।

Share it
Top