Home > Archived > लोक विधा की वही रस धारा, प्रतिभायें सम्मानित

लोक विधा की वही रस धारा, प्रतिभायें सम्मानित

झांसी। किशोर जी आश्रम सिमराहा में चल रहे सप्त दिवसीय रस धारा में पंाच दिवस की शाम रही लोक विधा के नाम प्रात: वेला में यज्ञ वंदी पर हवन तथा शनिदेव की वाण प्रतिष्ठा उदय शास्त्री नें मंत्राउच्चारण के साथ सम्पन्न कराई ।
श्रीमद्भागवत की कथा में भगवान कृष्ण की बाल लीलाओं का वर्णन किया गया एवं गोवर्धन की कथा का सुमधुर वर्णन आचार्य प्रशान्त बुधौलिया द्वारा रात्रि कालीन कार्यक्रम पं. शिवचरण चतुर्वेदी की सरस्वती वन्दना से वीणा वादनि वर दे इसके बाद यो हसरतों का दाग महब्बत में धो लिए की शानदार प्रस्तुति संगति रवि परिहार द्वारा की गयी। राजस्थान से आये फिरोज खान ने राजस्थान लोकगीतों की समा बांधी।

आजाद यादव निवाड़ी ने बुन्देलखण्ड की महिमा का वखान किया। भोपाल से पधारी सावित्री तिवारी ने संगीत विधा पर प्रकाश डालते हुए लोक गीतों की समा बांधी आपका साथ दिया देवेन्द्र गन्धार भोपाल ने ।

डा. धन्नूलाल गौतम ने किशोर मंच की उपलब्धियों एवं संगीत सम्मेलन के महत्व पर प्रकाश डाला आजाद याव निवाड़ी को लोककला वारिधि सम्मान द्वारिका प्रसाद गौतम छतर पुर का द्रोणाचार्य सम्मान से सम्मानित किया गया।

सवित्री तिवारी भोपाल का सर्वश्रेष्ठ कलाकार सम्मान तथा किशोर मंच से छात्राएं कुमकुम विद्यार्थी रजनी चौरसिया उमा विद्यार्थी सेानिया तिवारी की राई नृत्य प्रस्तुति पर बाल कलाकारों का सर्वश्रेष्ठ सम्मान कियागया। आयोजन में बृन्दावन के रासमण्डल ने रास नृत्य के बाद गोवर्धन लीला की शानदार प्रस्तुति करने पर उनके कलाकारों को विशिष्ठ कला सम्मान से सम्मानित कियागय। इस अवसर पर संस्था के सभी पदाधिकारी रामस्वरूप राय , कुशलपाल सिंह परिहार, डा.धन्नूलाल गौतम, संरक्षक पं. शिवचरण चतुर्वेदी, सन्दीप राय, मेहरवान राय पूरन राय, कुुंवर राजराय- राजकुमार राय, इन्द्रपाल राय, विनोद राय, सतेन्द्र फौजी, रामकिशन पत्रकार, विशाल तोमर, रवि परिहार, सिलोचना राजपूत, कल्याण सिंह परवा आदि की उपस्थिति रही।

और पढ़े.....

-ये हेयर पैक बनाएगा आपके बालो को लंबा

-12 वीं पास के लिए रिलायंस जियो में नौकरी पाने का सुनहरा अवसर

-शिव को अनाज चढ़ाने का है विशेष महत्व

-इस रत्न को धारण करने से पहले जान लें ये बात ...

-सेहत को नुक्सान पहुँचाती ऐसी चाय

-क्या आप भी मंदिर में करते हैं ये गलतियां....

-इस कार्य से भी प्रसन्न होते है देवी-देवता

Share it
Top