Home > Archived > मुझे पता है कि प्रदेश में आईएएस के गुट बन गए हैं

मुझे पता है कि प्रदेश में आईएएस के गुट बन गए हैं

मुझे पता है कि प्रदेश में आईएएस के गुट बन गए हैं

आईएएस सर्विस मीट का शुभारंभ


भोपाल । प्रदेश में ब्यूरोक्रेसी के हावी होने के आरोपों के बीच आज शिवराज सिंह चौहान ने आईएएस अधिकारियों को इशारो ंही इशारों में नसीहत दे डाली। उन्होंने कहा कि उन्हें पता है कि प्रदेश में भी आईएएस के गुट बन गए हैं लेकिन जनप्रतिनिधि से लड़ने की जगह समन्वय बनाने से ही काम हो पाएंगे। मुख्यमंत्री आज यहां तीन दिवसीय आईएएस सर्विस मीट के शुभारंभ सत्र को संबोधित कर रहे थे। सर्विस मीट का आयोजन मध्यप्रदेश आईएएस एसोसिएशन द्वारा किया गया है। श्री चौहान ने कहा कि भारतीय प्रशासनिक सेवा में शामिल होना अपने आप में जीवन का मिशन है। इसमें सेवा भाव सर्वोच्च होता है। जीवन को हर पल सार्थक बनाने की ईमानदार कोशिश लोकसेवक को करते रहना चाहिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि मध्यप्रदेश की ब्यूरोक्रेसी ने टीम मध्यप्रदेश के रूप में कई असंभव से लगने वाले काम सफलता पूर्वक किये है। उन्होंने भावांतर भुगतान योजना का उल्लेख करते हुए कहा है कि इसके क्रियान्वयन में प्रारंभिक कठिनाईयों को दूर कर लिया गया और आज किसान योजना की तारीफ कर रहे हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि सड़क, पुल, पुलिया भवन बनाने के साथ लोगों की जिंदगी बनाना, समाज को दिशा देना और अच्छे विचारों का प्रसार कर लोगों को मार्गदर्शन भी देना सरकार का काम है। उन्होंने ' एकात्म यात्रा ' की चर्चा करते हुए कहा कि आदि शंकराचार्य ने भारत की सांस्कृतिक एकता और अखण्डता के लिए मठों की स्थापना कर धार्मिक पुनरोत्थान का काम किया। उन्होंने कहा कि समाज को वैचारिक रूप से एकजुट रखना भी आवश्यक है। श्री चौहान ने कहा कि समाज के कुछ मुद्दे ऐसे हैं जो केवल प्रशासन और पुलिस से हल नहीं होते । समाज के सहयोग की जरूरत होती है। उन्होंने महिलाओं और बेटियों की सुरक्षा से जुड़े विषयों की चर्चा करते हुए कहा कि मध्यप्रदेश में बेटियों की गरिमा को धूमिल करने वाले नर पिशाचों को मृत्युदण्ड देने का कानून बनाकर पुरूष प्रधान मानसिकता को बदलने की पहल की गई है।

मुख्यमंत्री ने कहा है कि भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारियों में लोगों के कल्याण और प्रदेश के विकास की तड़प होना जरूरी है। हर विषय पर सकारात्मक सोच रखना होगी। यथास्थितिवाद से बड़ा परिर्वतन नहीं आ सकता। ब्यूरोक्रेसी के सहयोग से मध्यप्रदेश आज विकास के हर क्षेत्र में तेजी से आगे बढ़ रहा है। उन्होंने कहा कि लक्ष्य तय कर काम करने की प्रवृत्ति बढ़ाएं ताकि समय से काम पूरे होते रहें। मुख्यमंत्री ने नए साल की अग्रिम शुभकामनाएं देते हुए कहा कि नये साल में नवाचारी प्रशासन के क्षेत्र में नए कीर्तिमान बनाने के लिए तैयार रहें।

नेताओं के काम नहीं करते अधिकारी: बीपी सिंह

प्रदेश के मुख्य सचिव बीपी सिंह ने आज स्पष्ट कर दिया कि अधिकारी वही काम करते है जो जनहित के होते है। नेताओं के हित का काम नहीं किए जाते है ओर करना भी नही चाहिए। भले ही इसके लिए कितनी भी परेशानी उठानी पड़े। सिंह आज यहा तीन दिवसीय सर्विस मीट के शुभारंभ अवसर पर पत्रकारों से चर्चा कर रहे थे। उन्होने प्रदेश में नौकरशाही के बेलगाम होने के आरोपों के एक सवाल पर कहा कि प्रदेश में नौकरशाही हावी नही है, सब अधिकारी अच्छा काम कर रहे है। उन्होने कहा कि अधिकारी केवल नेता के कहने पर काम नही करते वह देखते है कि वह काम जनहित का है कि नहीं। अगर जनहित का होता है तो उसे प्राथमिकता से करते है। गौरतलब है कि प्रदेश में ब्यूरोक्रेसी के हावी होने के आए दिन आरोप लगते रहे है। हाल में ही सतना की महापौर ममता पांडे ने भी प्रदेश में ब्यूरोक्रेसी के बेलगाम होने का आरोप लगाते हुए कहा था कि इसी कारण भाजपा को चित्रकूट उपचुनाव में हार का सामना करना पड़ा था। उनका कहना है कि ब्यूरोक्रेसी के बेलगाम होने के कारण ही प्रदेश में विकास कार्य ठप पड़े है । कही कोई काम नही हो रहा है जनता में भारी नाराजगी है।

Share it
Top