Home > Archived > लालू ने कहा - शौचालय घोटाला सृजन घोटाले से भी बड़ा घोटाला

लालू ने कहा - शौचालय घोटाला सृजन घोटाले से भी बड़ा घोटाला

लालू ने कहा - शौचालय घोटाला सृजन घोटाले से भी बड़ा घोटाला


पटना। आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद ने कहा कि बिहार की स्थिति बदतर हो गई है। राज्य में घोटाला दर घोटाला सामने आ रहा है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री बोलते थे कि हमारी सरकार में आज तक भ्रष्टाचार का कोई आरोप नहीं लगा। उंगली पर गिनती की जाए तो दर्जनों भ्रष्टाचार के मामले आ गए। लालू शनिवार को दस सकरुलर रोड स्थित आवास पर प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने आरोप लगाया कि शौचालय घोटाला सृजन घोटाले से भी बड़ा घोटाला हो गया।

हम आपको बता दें कि पटना जिला में 14-15 करोड़ की पहचान हुई है, पूरे बिहार में जांच कर लेखा-जोखा किया जाए तो अरबों का घोटाला हो जाएगा। किस ऑथोरिटी के आधार पर गैर सरकारी संगठनों को पैसा ट्रांसफर किया गया। सृजन, पेंशन, छात्रवृत्ति, टॉपर व शिक्षा घोटाला सामने आ चुका है। आरोप लगाया कि आइएएस से नेता बने व्यक्ति ने सारे पैसों को ठिकाने लगाया। प्रसाद ने आरोप लगाया कि सभी जांच एजेंसियां को खिलौना बना दिया गया है। हमारा मुकाबला सीधे बीजेपी-आरएसएस से है। हम नियोजित शिक्षकों के साथ हैं।

आठ नवंबर को पूरे बिहार में नोटबंदी व जीएसटी के खिलाफ काला दिवस सभी पार्टी अपने-अपने ढंग से मनाएगी। लालू खुद भी उस दिन सड़क पर उतरेंगे। उन्होंने यूपी के वाणिज्य कर अधिकारी रह चुके शंकर चरण त्रिपाठी को पार्टी का राष्ट्रीय प्रवक्ता मनोनीत किया। प्रेस कांफ्रेंस में पूर्व मंत्री आलोक मेहता भी उपस्थित थे।

जदयू के मुख्य प्रवक्ता संजय सिंह ने कहा कि शुक्रवार को जो कुछ भी हुआ, उसकी शुरुआत लालू प्रसाद ने ही भागलपुर से कर दी थी। कहा कि बोये पेड़ खजूर का तो आम कहां से होय। लालू प्रसाद ने जब नीतीश कुमार और आरसीपी सिंह को गाली दी तो हम क्या चूड़ी पहन के बैठे हैं। कहा कि हम उनके ईंट का जवाब पत्थर से देंगे। जदयू का हर कार्यकर्ता अपने नेता नीतीश कुमार के अपमान का बदला लेगा।

गौरतलब है कि लालू जी ने भागलपुर की सभा में मुख्यमंत्री के भागलपुर प्रवास पर सवाल उठाया। सीएम की जन्मस्थली बख्तियारपुर की सार्वजनिक सभा में उनके डीएनए पर सवाल खड़े किए। जब खेल लालूजी ने शुरू किया है तो फिर उन्हें जवाब भी सुनने के लिए तैयार रहना होगा। दशहरा के मौके पर इनके बड़े बेटे तेजप्रताप यादव ने जिस तरह जेडीयू के प्रवक्ताओं के वध करने की बात कही थी, इसे कहां का संस्कार कहा जाएगा? आज लालूजी तिलमिला रहे हैं, लेकिन पहले जब इन्होंने छेड़ा है तो ये तय है कि हम छोड़ेगें नहीं। उन्होंने कहा कि बात जब निकली है तो दूर तलक जाएगी।

Share it
Top