Home > Archived > पटवारी भर्ती : टल सकती है परीक्षा, बदलेंगे नियम

पटवारी भर्ती : टल सकती है परीक्षा, बदलेंगे नियम

पटवारी भर्ती : टल सकती है परीक्षा, बदलेंगे नियम

भोपाल। प्रदेश में 9 दिसंबर से शुरू होने वाली पटवारी भर्ती की ऑनलाइन परीक्षा करीब 6 माह के लिए टल सकती है। 9500 पटवाररियों की इस भर्ती परीक्षा के फिलहाल टलने का कारण ट्रेनिंग कोर्स और ट्रेनिंग मॉड्यूल कोर्स का पुराना होना बताया जा रहा है।

बताया जा रहा है कि राजस्व विभाग पटवारी भर्ती नियमों में संशोधन कर रहा है। वहीं, पटवारियों की पात्रता परीक्षा के बाद उन्हें दी जाने वाली ट्रेनिंग संबंधित कोर्स में भी बदलाव किया जा रहा है। ट्रेनिंग मॉड्यूल पुराना हो चुका है, इसमें नई टेक्नोलॉजी को भी जोड़ा जाएगा।

स्टेट कैडर में होगा तब्दील

जानकारी के मुताबिक अब पटवारियों को स्टेट कैडर दिया जाएगा, ताकि प्रदेश में कहीं भी उनका तबादला किया जा सके। इन नियमों को बदलने के बाद भर्ती परीक्षा आयोजित होगी। इन नियमों को संशोधित करने में कम से कम 6 माह का समय लगने का अनुमान लगाया जा रहा है।

ये भी पढ़ें

* पटवारियों को स्टेट कैडर देने के नियम का मसौदा तो तैयार है, लेकिन ट्रेनिंग मॉड्यूल बदलने में समय लग सकता है।
* इसके बाद विभाग प्रोफेशनल एग्जामिनेशन बोर्ड (पीईबी) को भर्ती परीक्षा आयोजित करने के लिए लिखेगा।

* बोर्ड परीक्षा आयोजित करने के लिए तीन से चार महीने की मांग करता है।
* विभाग के अधिकारियों के मुताबिक अभी नियम संशोधन में एक से डेढ़ महीने लग सकता है।
* भर्ती के बाद सरकार के पास सिर्फ दो हजार पटवारियों को ट्रेनिंग देने की ही व्यवस्था है।
* इस कमी को दूर करने के लिए सरकार अब इंजीनियरिंग कॉलेज सालभर के लिए किराए पर ले कर पटवारी की ट्रेनिंग दे सकती है।
* माखनलाल चतुर्वेदी यूनिवर्सिटी से संबंधित कम्प्यूटर सेन्टर संचालकों ने भी मुख्यमंत्री से मिलकर पटवारी परीक्षा में कम्प्यूटर डिप्लोमा मान्य करने की मांग की थी।
* कम्प्यूटर सेन्टर संचालक संघ के अध्यक्ष आरबी पटेल ने बताया कि मुख्यमंत्री ने हमारी मांगों पर विचार करने का आश्वासन दिया है।

आपको बता दें कि पूरे मध्यप्रदेश में 9 दिसंबर से पटवारी परीक्षा का ऑनलाइन आयोजन होने को था। अभ्यर्थियों को अब अपने एडमिट कार्ड के आने का इंतजार था। लेकिन अब उनका ये इंतजार कब खत्म होगा, फिलहाल कहना मुश्किल है। वहीं यदि नियमों में बदलाव के बाद यदि परीक्षा के लिए कंप्यूटर डिप्लोमा अनिवार्य हुआ तो कई अभ्यर्थियों को निराशा हाथ लग सकती है।

Share it
Top