Home > Archived > योगेंद्र यादव बोले - किसान बचेगा, तभी देश बचेगा

योगेंद्र यादव बोले - किसान बचेगा, तभी देश बचेगा

योगेंद्र यादव बोले - किसान बचेगा, तभी देश बचेगा

नई दिल्ली। दिल्ली के संसद मार्ग पर देशभर से आए 184 किसान संगठनों से जुड़े किसान परिवार प्रदर्शन कर रहे हैं। आज इस किसान मुक्ति संसद का दूसरा दिन है। किसान मुक्ति संसद में कृषि क़र्ज़ से पूर्ण मुक्ति और कृषि उत्पाद के लाभकारी मूल्य को लेकर दो विधेयकों के मसौदे पारित किये गये।

आखिल भारतीय किसान समनव्य समिति के नेता, संयोजक वीएम सिंह, योगेंद्र यादव, सांसद राजू शेट्टी, डॉ. सुनीलम, भाकपा नेता व अखिल भारतीय किसान सभा के राष्ट्रीय महासचिव अतुल कुमार अंजान, सामाजिक कार्यकर्ता मेधा पाटेकर समेत कई नेताओं ने आए हुए किसानों से आह्ववान किया है कि 2019 में एक ऐसी सरकार बने जो सही मायने में किसानों की सरकार हो। इसके लिए किसान स्वयं को प्रतिबद्ध करें।

स्वराज इंडिया के राष्ट्रीय अध्यक्ष योगेन्द्र यादव ने किसान मुक्ति संसद को संबोधित करते हुए कहा कि पहली बार किसान संसद में दो बिलों का मसौदा पेश किया गया है। कृषि क़र्ज़ से पूर्ण मुक्ति और कृषि उत्पाद के लाभकारी मूल्य को लेकर दो विधेयकों के मसौदे पारित कर दिये गए हैं।

उन्होंने आगे के कार्यक्रम की रूपरेखा प्रस्तुत करते हुए बताया कि अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति 26 नवंबर से किसान मुक्ति अंदोलन चलाएगा। इसकी शुरुआत गुजरात के बारदोली से होगी। इस अभियान में सभी किसान संगठन सरकार की नीति और नियत को जन-जन तक पहुचायेंगे।

मोदी सरकार पर हमला करते हुए योगेंद्र यादव ने 'किसान मुक्ति संसद' में आये हजारों किसानों से आग्रह किया कि वे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की वादाखिलाफी के विरुद्ध अपनी उंगलियां उठाएं।

यादव ने नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि प्रधानमंत्री मोदी के पास उनके निवास और कार्यालय से 5 मिनट की दूरी पर रहने वाले किसानों से आकर मिलने तक का समय नहीं है।

योगेंद्र यादव ने कहा कि ‘प्रधानमंत्री मोदी व्यस्त व्यक्ति हैं। वो शायद गुजरात में व्यस्त हैं| इसलिए हम वहां जाकर इस अभियान की शुरुआत करेंगे। यदि प्रधानमंत्री देश के किसानों को लेकर चिंतित हैं, तो उन्हें वहीं आकर हमसे मिलना चाहिए और किसान मुक्ति संसद में तैयार किये गए बिल को संसद में पास करना चाहिए।‘

योगेन्द्र यादव ने कहा, ‘हम इस किसान मुक्ति संसद से प्रण लेकर जा रहे हैं कि हम किसानों के हक और अधिकार हासिल करने के संघर्ष को और तेज करेंगे। हम सच्चाई के रास्ते पर हैं। हम देश बचाने के रास्ते पर हैं, क्योंकि हमारा मानना है कि किसान बचेगा, तभी देश बचेगा। हम लड़ेंगे और अपनी जीत सुनिश्चित करेंगे।‘

भाषण के दौरान योगेंद्र यादव किसान-संसद में आये उन विधवाओं को संबोधित करते हुए भावुक हो गए जिनके पतियों ने कर्ज के बोझ तले आत्महत्या कर ली है। महिलाओं को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि पूरा देश आपके साथ खड़ा है| हम सरकार की नीतियों के ख़िलाफ़ इस लड़ाई को मिलकर लड़ेंगे।

इस प्रदर्शन में पंजाब से आए किसान अपने साथ गन्ना लेकर, तमिलनाडु से आने वाले किसान अपने कंधे पर सांकेतिक हल और कुदाल लटकाए, बिहार के जमुई से युवक अपने साथ पारंपरिक तीर-धनुष लेकर दिल्ली के संसद मार्ग पर पहुंचकर इस प्रदर्शन में शामिल हुए।

Share it
Top