Home > Archived > होटल संचालकों को करना होगा ‘सेवा शुल्क’ पर समझौता

होटल संचालकों को करना होगा ‘सेवा शुल्क’ पर समझौता

होटल संचालकों को करना होगा ‘सेवा शुल्क’ पर समझौता

संचालक नहीं चाहते ग्राहक से विवाद


ग्वालियर।
वर्तमान में शहर में संचालित लगभग सभी छोटे-बड़े होटल संचालक अपनी सेवाओं पर ग्राहकों से अलग-अलग सर्विस चार्ज वसूल कर रहे हैं, लेकिन केन्द्र सरकार द्वारा विगत दिवस जारी फरमान के अनुसार अब इन होटल संचालकों को ग्राहक द्वारा दिए जाने वाले सर्विस चार्ज पर समझौता करना होगा। बताया जाता है कि होटल संचालकों द्वारा लिए जाने वाला यह सेवा शुल्क वहां काम करने वाले कर्मचारियों के बीच बांट दिया जाता है।

उल्लेखनीय है कि केन्द्र सरकार ने होटल और रेस्त्रां संचालकों के लिए एक फरमान जारी किया है। इसके अंतर्गत होटल या रेस्त्रां की सर्विस पसंद नहीं आने पर ग्राहक सेवा शुल्क का भुगतान करने से इंकार कर सकते हैं। ऐसी स्थिति में या तो होटल संचालक को ग्राहक से समझौता करना होगा नहीं तो फिर विवाद की स्थिति निर्मित होगी। वर्तमान में होटल संचालकों द्वारा पांच से बीस प्रतिशत तक सर्विस चार्ज वसूल किया जाता है।

यह होता है सर्विस चार्ज
मान लीजिए कि आपने किसी होटल में 500 रुपए का भोजन किया है। इस पर होटल संचालक द्वारा पांच से बीस प्रतिशत तक सेवा शुल्क लिया जाता है। इस प्रकार से आपको इस भोजन पर होटल संचालक को 525 से 600 रुपए तक का भुगतान करना होगा। होटल संचालक को मिलने वाले 25 से 100 रुपए कर्मचारियों के बीच बांट दिए जाते हैं, लेकिन अब ग्राहक द्वारा होटल में दी गई सर्विस से संतुष्ट नहीं होने पर सर्विस चार्ज दिए जाने से इंकार करने पर यह पैसे होटल संचालक को नहीं मिलेंगे।

इन्होंने कहा
‘ग्राहक द्वारा दिया जाने वाला सेवा शुल्क हमारे पास रहता है जिसे हम अपने कर्मचारियों में बांटते हैं। यदि ग्राहक को हमारी सर्विस पसंद नहीं आएगी तो वह सर्विस चार्ज नहीं दे। हम सर्विस चार्ज के लिए ग्राहक से झगडक़र अपना व्यवसाय खराब नहीं कर सकते।’
श्रीमती रश्मि जैन
चोटीवाला रेस्टोरेन्ट, स्टेशन बजरिया
‘सरकार के इस फरमान से सर्विस चार्ज को लेकर विवाद की स्थिति निर्मित होगी। सरकार को ऐसे फरमान जारी नहीं करने चाहिए। हमें अपने होटल को ग्राहक की मंशा के अनुसार चलाना है न कि उससे झगड़ा करके। ’

मुकेश गुप्ता
मीनाक्षी पैलेस, नई सडक़

‘हमें सर्विस चार्ज को लेकर ग्राहक की बात मानना होगी। हम ग्राहक से लड़ नहीं सकते हैं। यदि होटल संचालक सर्विस चार्ज को लेकर ग्राहक की बात नहीं मानेगा तो निश्चित ही विवाद की स्थिति बनेगी। वर्तमान में दस से पन्द्रह प्रतिशत तक सर्विस चार्ज लेते आ रहे हैं। इसमें सरकार की कोई भूमिका नहीं है।’

सौरभ खण्डेलवाल
होटल मयूर, स्टेशन रोड

अन्य ख़बरे.....

पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान आज

एटीएम से लेनदेन पर अब शुल्क लगना शुरू

Share it
Top