Home > Archived > लीक से हटना ही पड़ेगा

लीक से हटना ही पड़ेगा

वायुसेना प्रमुख अपूर्व राहा के कश्मीर पर दिए बयान से कुछ लोगों को आश्चर्य हो सकता है क्योंकि नीतिगत मसलों पर आमतौर पर सेना की तरफ से कोई टिप्पणी नहीं आती है। वायुसेना प्रमुख की हैसियत से अपूर्व राहा ने जो सच सामने रखा उस पर नए सिरे से विचार की जरूरत है।

आजादी के बाद से अपने नैतिक आदर्शों का कांग्रेस सरकारों ने दुनियाभर में जो ढिंढोरा पीटा, उसी का नतीजा है कश्मीर समस्या आज लाइलाज बीमारी बन गई। हम पंचशील और गुटनिरपेक्ष आंदोलन की दुहाई देते रहे और पड़ौसी हमारी पीठ पर छुरे घोंपता रहा। भारतीय भूभाग पर चीन का कब्जा हो या फिर कश्मीर में पाकिस्तान की हरकतें, हम सालों से तमाशा देखते रहे। एक सेमीनार में वायुसेना प्रमुख ने जो कहा उसे पिछली सरकारों पर उंगली उठाए जाने के तौर पर नहीं देखा जाना चाहिए, जैसा कि कहा जा रहा है। सच यही है पिछले सत्तर सालों में जिनके हाथों में सत्ता रही उन्होंने कश्मीर समस्या को मूकदर्शक बन कर देखा। कश्मीर समस्या को हल करने के गंभीर और सकारात्मक प्रयास कभी नहीं हुए। इस सेमीनार में वायुसेना प्रमुख ने कश्मीर समस्या की जड़ को बेहद संजीदगी से रखा, बल्कि यह भी कहा कि अगर समय रहते पाक को उसी की भाषा में जवाब दिया जाता तो पाक अधिकृत कश्मीर भारत के नक्शे पर होता।

उन्होंने इस बात का भी जिक्र किया कि किन अवसरों पर राजनैतिक कारणों से वायुसेना को आगे बढऩे से रोका गया। अब समय आ गया है कि कश्मीर के मुद्दे पर लीक से हटकर कदम बढ़ाए जाएं। हालांकि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बलूचिस्तान और पाक अधिकृत कश्मीर पर भारत सरकार के नए दृष्टिकोण को दुनिया के सामने रख कर यह बताने की कोशिश की है कि कश्मीर में भारत के शांति प्रयासों को उसकी कमजोरी न समझा जाए।

भारत पहले ही पाकिस्तान को स्पष्ट कर चुका है कि दोनों देशों के बीच वार्ता सिर्फ और सिर्फ पाक अधिकृत कश्मीर पर ही होगी। इसमे कोई संदेह नहीं बलूचिस्तान के मुद्दे पर भारत की कूटनीति से घबराया पाकिस्तान इस मुद्दे पर अब मुस्लिम देशों को एकजुट करने में जुट गया है। वहीं इस मुद्दे का अंतर्राष्ट्रीयकरण करने के लिए भी ऐड़ीचोटी का जोर लगा रहा है। पाकिस्तान को डर यह भी है कि बलूचिस्तान कहीं दूसरा बांग्लादेश न बन जाए। कश्मीर में पाकिस्तान की बढ़ती हरकतों के लिए जरूरी है उसे जैसे को तैसा की तर्ज पर जवाब दिया जाए।

Share it
Top