Home > Archived > अफ सरों को कलक्ट्रेट से पैदल दफ्तर जाना पड़ा, हड़ताली वाहन चालकों ने विरोध प्रदर्शन के दौरान दिखाई ताकत

अफ सरों को कलक्ट्रेट से पैदल दफ्तर जाना पड़ा, हड़ताली वाहन चालकों ने विरोध प्रदर्शन के दौरान दिखाई ताकत

अफ सरों को कलक्ट्रेट से पैदल दफ्तर जाना पड़ा, हड़ताली वाहन चालकों ने विरोध प्रदर्शन के दौरान दिखाई ताकत

मथुरा। प्रांतीय आव्हान पर राजकीय वाहन चालकों ने हड़ताल के दौरान चक्का जाम करने की गरज से अफसरों को कलक्ट्रेट से दफ्तर तक पैदल जाने को मजबूर किया। जिलाधिकारी की गाडी रोकने पर पुलिस से तनातनी के बाद स्वयं डीएम पैदल अपने कार्यालय जाने को सशर्त तैयार हुए।

राजकीय वाहन चालक संघ के प्रदेश नेतृत्व के आहवान पर वेतन ग्रेड 1900 से बढ़ाकर 2000 किए जाने, वाहन चालकों के पदों में प्रतिशत खत्म किए जाने और एक माह के मिलने वाले मानदेय के साथ एक माह के मूल वेतन के बराबर डीए जोडऩे के शासनादेश जारी करने की मांग को लेकर वाहन चालकों ने सोमवार को कलक्ट्रेट पर चक्का जाम किया। बड़ी संख्या में राजकीय वाहन चालकों ने कलैक्ट्रेट पर पहुंचकर नारेबाजी की। अपने पूर्व घोषित कार्यक्रम के तहत राजकीय वाहन चालकों ने सबसे पहले सिटी मजिस्ट्रेट रामअरज यादव को रोका और उनसे सरकारी गाड़ी का प्रयोग न करने की मांग की।

वाहन चालकों के रूख के चलते सिटी मजिस्ट्रेट को अपनी सरकारी गाड़ी छोड़कर पैदल अपने कार्यालय जाना पड़ा। इसके बाद वाहन चालकों ने एडीएम का रास्ता रोक लिया। उन्होंने अपनी मांगों व पूर्व नियोजित कार्यक्रम के बारे में बताया तो एडीएम ने उनको सहयोग का आश्वासन देते हुए अपनी सरकारी गाडी छोड़ दी। इसके बाद वाहन चालक कलक्ट्रेट के गेट पर डीएम नितिन बसंल की गाड़ी रोक कर उन्हें गाड़ी से बाहर आने के लिए कहने लगे। इसी बीच मौके पर एसओ सदर आ गए। वाहन चालकों की एसओ सदर से तीखी नौंक-झौंक हो गई। वाहन चालक अपनी मांगों से एक इंच भी पीछे हटने को तैयार नहीं थे। नौंक-झौंक बढ़ती देख डीएम ने वाहन चालकों को आश्वासन दिया कि वह हर प्रकार से उनके साथ हैं और इसीलिए वह आंदोलन के दौरान प्राईवेट गाड़ी में चलने के लिए तैयार हैं लेकिन विशेष परिस्थिति में वह सरकारी गाड़ी का प्रयोग जरूर करेंगे। इसके बाद वाहन चालकों ने अपना प्रदर्शन जारी रखा।

कलैक्ट्रेट पर प्रदर्शन के दौरान विष्णु कुमार शर्मा, अमीचन्द्र, पदम सिंह, नेक मौहम्मद, ओमप्रकाश, संतार खां, राजेन्द्र कुमार, बलवीर ंिसंह, सुजीत ंिसंह, गणेशी लाल, जवाहर, नाहर सिंह, वीरेंद्र सिंह, हुकूम सिंह, प्रेमचन्द्र शर्मा, गिर्राज सिंह, चोब सिंह, दुलीचन्द्र, उत्तम चंद, राजवीर सिंह, सोबरन सिंह, ओमप्रकाश, रमेश चन्द्र मीणा, चन्द्रशेखर, मोहन मीना आदि मौजूद रहे।

Share it
Top