Home > Archived > तालाब में गंदगी डालने से श्रद्धालुओं को हो रही परेशानी

तालाब में गंदगी डालने से श्रद्धालुओं को हो रही परेशानी

छतरपुर। प्रसिद्ध आस्था के केंद्र संकट मोचन मंदिर में दूर दराज से श्रद्धालू दर्शन करने के लिये आते हैं। साथ ही आसपास में विभिन्न देवी देवताओं के मंदिर भी स्थित है। मंदिर मे पास संकट मोचन तालाब बना हुआ है। इस तालाब से पूजा पाठ के लिये भी लोग पानी लेते हैं और स्नान भी करते हैं। समीप में सिंघाड़ी नदी और मुक्ति धाम स्थित है। जहां लोग अंत्योष्टी के लिये जाते हैं।

यह पूरा इलाका धार्मिक भावनाओं से भरा हुआ है। फिर भी यहां पर मांस की दुकानें खुल गईं हैं। जो खुले में मुर्गा मछली काट कर विक्रय कर रहे हैं। और सारी गंदगी तालाब में डालते हैं। रोड पर भी यह दुकानें लगीं हुईं हैं। जिससे पूरे इलाके में गंदगी दिखाई देती हैं। मंदिर में मौजूद पुजारी और यहां से निकलने वाले लोगों ने हटाये जाने की मांग की है। मंदिर के महंत रामदास जी महाराज का कहना है कि कई बार वे शिकायतें कर चुके हैं कि यहां से इन मांस की दुकानों को हटाया जाये शासन ने जब महोबा रोड पर स्थान दे दिया है। तो यह पूरा शहर क्यों गंदा कर रहे हैं।

मंदिर के समीप कई पारंपरिक मेले भी लगते हैं। हाट की दुकानें भी लगतीं हैं। मांस बेचने वाले दुकानदार बगल में ही दुकानें लगा लेते हैं। तो यहां पर आने वाले श्रद्धालुओं को परेशानी होती है। तिराहे पर लगभग एक दर्जन दुकानें लग गईं हैं। जो प्रतिदिन मांस का विक्रय करतीं हैं। गर्मी के दिनों में यह समस्या और बढ़ जाती है। खुले में काटे गये मुर्गे के पंख पूरे वातावरण में फैलते हैं। जो मन्दिर परिसर तक भी आ पहुंचते हैं। प्रशासन से भी यहां के रहने वाले लोगों ने मांग की है कि जल्द से जल्द इन दुकानों को हटाया जाये।

Share it
Top