Home > Archived > होली पर चलेगी नमो मिसाइल

होली पर चलेगी नमो मिसाइल

होली पर चलेगी नमो मिसाइल

पिचकारियों पर चढ़ा राजनीतिक रंग


ग्वालियर।
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के नाम की पतंग के बाद अब होली के मौसम में भी पूरा बाजार राजनेताओं की पिचकारियों से पट गया है। केवल पिचकारियों पर ही राजनीतिक रंग चढ़ा है बल्कि तरह-तरह के रंग भी राजनीतिक हो चुके हैं।

शहर के बाजारों में इस बार होली पर भी राजनीति का रंग चढ़ गया है। पिचकारियां बनाने वाली कम्पनियों ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की लोकप्रियता को भुनाने के लिए नरेन्द्र मोदी की फोटो वाली पिचकारी बाजार में उतारी है। पिचकारी को नमो नाम दिया गया है।पचास रुपए में यह पिचकारी बाजार में बिक रही है। बच्चों और युवाओं में यह पिचकारी आकर्षण का केन्द्र बनी हुई है। इसे नमो मिसाइल भी कहा जा रहा है। बाजार में खरीदारी कर रहे लोग भी आते-जाते पिचकारी देख रुक रहे हैं। इसी के साथ डोरेमॉन और अन्य कार्टून कैरेक्टर वाली पिचकारियां भी बिक रही हैं। इनकी कीमत करीब 150 रुपए है। दुकानदारों ने बताया कि मोदी व केजरीवाल की पिचकारी की मांग है, लेकिन शहर में मोदी की तस्वीर लगी पिचकारी ही ज्यादा बिक रही है। साधारण पिचकारियों में महंगाई का असर भी देखने को मिल रहा है। पिछली वर्ष होली पर 15 रुपए में मिलने वाली पिचकारी अब 20 रुपए की मिल रही है। दुकानदार बताते हैं कि बच्चों को होली पर पिचकारी काफी भाती है। बच्चों की मांग को लेकर बाजार में चाइनीज पिचकारियां भी सज गई हैं। नई वैरायटी मेंढक, मछली, स्पाइडरमैन और गुडिय़ा पिचकारी बच्चों को खूब भा रही हैं।

होली में कांग्रेस का रंग फीका
आप बाजार जाएं और अगर आपको मोदी और केजरीवाल के नाम से होली के रंग बिकते दिख जाएं तो हैरान मत होइएगा। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की फोटो वाली पिचकारियों को लोग हाथों हाथ ले रहे हैं और इसे खूब पसंद भी कर रहे हैं। वहीं लोकसभा चुनाव के बाद से कांग्रेस की दुर्गति के चलते दुकानदार राहुल गांधी और प्रियंका गांधी के नामों को रंगों में शुमार करने से कतरा रहे हैं। इस बार की होली में कांग्रेस का रंग काफी फीका पड़ता नजर आ रहा है।

लाल व हरे रंग की मांग ज्यादा
बाजार में बैंगनी, लाल, पीला, गुलाबी, नीला, काला, हरा रंग उपलब्ध है, लेकिन होली पर सबसे ज्यादा मांग हरे और लाल रंग की होती है।

हर्बल रंगों का करें प्रयोग

चिकित्सकों की सलाह है कि केवल हर्बल रंगों से ही होली खेलें। गहरे रंगों जैसे हरा और लाल रंग का प्रयोग करें। साथ ही गीले रंगों का प्रयोग भी करें। यदि रंग लगाने पर जलन होती है तो तुरंत उसे साबुन से धो दें और दवाई लें। ऐसा नहीं करने पर स्किन पर दाने पड़ सकते हैं, जिनमें तेज खुजली होती है। इससे दर्द होता है और उसका फैलाव शरीर के अन्य भागों में भी हो जाता है।

Share it
Top