Home > Archived > अपह्ताओं के चंगुल से कभी भी छूट सकता है रामेन्द्र

अपह्ताओं के चंगुल से कभी भी छूट सकता है रामेन्द्र

ग्वालियर। देहली पब्लिक अकादमी स्कूल से लापता हुए छात्र रामेन्द्र गुर्जर के मामले में पुलिस सब कुछ जानकर भी परिजनों से अनजान बनी हुई है। छात्र को बदमाशों के कब्जे से मुक्त कराने के लिए पुलिस तलाश में जुटी हुई है।
डीडी नगर के देहली पब्लिक अकादमी स्कू ल से सेना में सूबेदार के बेटे रामेन्द्र गुर्जर का अपहरण होने के बाद पुलिस उसे किसी तरह भी मुक्त कराना चाहती है। सूत्रों की माने तो पुलिस को रामेन्द्र की बदमाशों के पास सुरक्षित होने की खबर मिली थी। पुलिस का किसी परिजन से सम्पर्क नही हो पा रहा है। रामेन्द्र के परिजन ने क्यों पुलिस से दूरी बना ली है। इसका जवाब किसी के पास नहीं है, पुलिस का प्रयास है कि किसी तरह रामेन्द्र बदमाशों के कब्जे से सुरक्षित बाहर निकल आए। दिन मे ंखबर मिली थी कि रामेन्द्र की मां की हालत खराब हो गई है लेकिन रात को पता चला कि वह ठीकठाक है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार रामेन्द्र की आठ लाख रुपए फिरौती मांगी गई है और तभी से रामेंन्द्र के परिजन पुलिस से दूर है। बताया गया है कि रामेन्द्र सुरक्षित है और वह किसी भी समय घर लौट सकता है। स्कूल स्टाफ भी रामेन्द्र गुर्जर के घर लौटने का इंतजार कर रहा है। रामेन्द्र का अपहरण उसके रिश्तेदार की मदद से हुआ था। पुलिस का दावा है कि रामेन्द्र तड़के तक बदमाशों के कब्जे से रिहा हो जाएगा। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक वीरेन्द्र जैन के नेतृत्व में काम कर रही टीम काफी होशियारी से इस काम को अंजाम दे रही है। पुलिस देर रात तक यही कहती रही कि रामेन्द्र के हम काफी करीब हैं और किसी भी समय उसकी रिहाई करा सकते हैं। जिन अंकल ने रामेन्द्र का अपहरण किया था वह उसके काफी करीब है। खबर लिखे जाने तक पुलिस रामेन्द्र को बदमाशों के कब्जे से छुड़ाने के लिए जुटी हुई थी।

Share it
Top