Home > Archived > ताईवान में धरती हिलने से पांच की मौत, नेपाल और बिहार को भी लगा झटका

ताईवान में धरती हिलने से पांच की मौत, नेपाल और बिहार को भी लगा झटका

ताईवान में धरती हिलने से पांच की मौत, नेपाल और बिहार को भी लगा झटका


ताइपे/काठमांडू। ताइवान में शुक्रवार देर रात भारतीय समयानुसार करीब 1.30 बजे दक्षिणी ताइवान में 6.4 तीव्रता के भूकंप के कारण 16 मंजिल की एक इमारत के ढह जाने से पांच लोगों की मौत हो गई। बचावकर्मी इमारत में फंसे लोगों को निकालने का प्रयास कर रहे हैं। इस झटके ने छोटे से आइलैंड में भारी तबाही मचायी है। राहत कार्य में जुटे सुरक्षा और राहत बल के सदस्‍यों ने 200 से अधिक लोगों को मलबे से बाहर निकाला है। अभी भी सैकड़ों लोगों के फंसे होने का दावा किया जा रहा है।
भूकंप का असर नेपाल में भी देखने को मिला। यहां मलबे में दबने से 15 लोगों के घायल होने की खबर है। किसी के हताहत होने की खबर नहीं है। ताईवान और नेपाल के अलावा भारत में भी कुछ जगह पर भूकंप के हल्के झटके महसूस किए गए हैं। नेपाल की सीमा से सटे बिहार राज्य के दरभंगा, सीतामढ़ी, बेतिया, रक्सौल और मुजफ्फरपुर में हल्के झटके महसूस किए गए हैं। हालांकि यहां अभी तक जानमाल के नुकसान की कोई खबर नहीं है। नेपाल में पिछले साल अप्रैल महीने में भी भूकंप आए था, जिसमें वहां भारी मात्रा में जानमाल का नुकसान हुआ था। ताईवान के अधिकारियों ने बताया कि द्वीप में तड़के आए भूकंप के कारण चार इमारतें ढह गईं लेकिन बचाव अभियान उस इमारत पर मुख्य रूप से केंद्रित है जिसके ढहने से पांच की मौत हुई है। दमकलकर्मियों ने मलबे से कुछ लोगों को बाहर निकाला है। अधिकारियों ने बताया कि एक बच्चे, और एक महिला सहित पांच लोगों को मृत अवस्था में बाहर निकाला गया। नेशनल फायर एजेंसी के प्रवक्ता लिन कुआन चेंग ने बताया कि तीनों लोग अस्पताल भेजे जाने से पहले ही दम तोड़ चुके थे।
उन्होंने कहा, ‘वहां हर मकान में खोज एवं बचाव कार्य जारी है। अभी तक 100 से अधिक लोगों को मलबे से बाहर निकाला जा चुका है। स्थानीय मीडिया के अनुसार इस टावर में 200 से अधिक फ्लैट थे। अधिकारी इस बात की जानकारी नहीं दे पाए कि इमारत में अनुमानित कितने लोग फंसे हो सकते हैं क्योंकि वे अब भी इमारत में लोगों की तलाश कर रहे हैं। शहर भर में 200 से अधिक लोगों को बचाया गया है और 100 से अधिक लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है।
एक महिला ने स्थानीय चैनल एसईटी टीवी से कहा, ‘मैंने हथौड़े से अपने घर का दरवाजा तोड़ा। इसके बाद मैं किसी तरह घर से बाहर निकली।’ यूएस जियोलॉकिल सर्वे के अनुसार भारतीय समयानुसार देर रात करीब डेढ़ बजे आए भूकंप का केंद्र द्वीप के दूसरे सबसे बड़े शहर एवं एक महत्वपूर्ण बंदरगाह काउशुंग से 39 किलोमीटर पूर्वोत्तर में 10 किलोमीटर की गहराई में था।
शुरूआत में बताया गया था कि भूकंप की तीव्रता 6.7 थी लेकिन बाद में इसे 6.4 बताया गया। प्रशांत सुनामी चेतावनी केंद्र ने बताया कि इस भूकंप से सुनामी आने की आशंका नहीं है। ताइवान दो टेक्टोनिक प्लेटों के मिलान बिंदु के निकट स्थित है और यहां अक्सर भूकंप आते रहते हैं। मध्य ताइवान में जून 2013 में 6.3 तीव्रता के भूकंप के कारण चार लोगों की मौत हो गई थी और बड़े स्तर पर भूस्खलन हुआ था। द्वीप में सितंबर 1999 में आए 7.6 तीव्रता के भूकंप के कारण करीब 2400 लोगों की मौत हो गई थी।

Share it
Top