Home > Archived > अपहरण के बाद की गई थी किन्नर की हत्या

अपहरण के बाद की गई थी किन्नर की हत्या

हत्यारों ने पुलिस को बताया हत्या का राज

साक्ष्य मिटाने को अस्थि किया विसर्जन

कासगंज। कोतवाली क्षेत्र से चार माह से गायब पुष्पेंद्र उर्फ तमन्ना किन्नर की हत्यारों ने हत्या कर दी है। इसका खुलासा पुलिस ने पिता पुत्र समेत तीन हत्यारों को गिरफ्तार करने के बाद किया है। परिजनों के दबाव के बाद भोगपुर ले जाकर किन्नर की गला दबाकर हत्या कर दी गई। साक्ष्य मिटाने को किन्नर के शव का संस्कार कर अस्थियां भी विसर्जित कर दी र्गइं।

पुलिस ने गिरफ्तार आरोपियों को जेल भेज दिया है, जबकि फरार आरोपियों की तलाश जारी है। बीती 13 फरवरी को ढोलना के गढ़ी पंचगाई निवासी ओंकार बाबा पुत्र लल्लू सिंह ने अपने बेटे पुष्पेंद्र उर्फ तमन्ना किन्नर के गायब होने के मामले में नामजद अपहरण का मामला दर्ज कराया था। इसके बाद ही पुलिस किन्नर की तलाश में जुटी हुई थी। सर्विलांस के जरिए पुलिस हत्यारों तक पहुंच गई। बहेडिया निवासी मोहनलाल पुत्र गंगाराम को गिरफ्तार कर बीती 20 फरवरी को जेल भेज दिया था, जबकि बीते मंगलवार को शेषपाल उर्फ ललकुआ, रजनेश पुत्रगण मोहन लाल को भी गिरफ्तार कर लिया। आरोपियों ने पुलिस को बताया कि शेषपाल और तमन्ना किन्नर पति पत्नी की तरह रहते थे, वंश को लेकर परिजनों को आपत्ति थी। इसी के बाद परिजनों के दबाव पर पुष्पेंद्र उर्फ तमन्ना किन्नर को शेषपाल के मामा का लड़का सतीश, ताऊ का लड़का छोटू समेत अन्य लोग भोगपुर में मइया के दर्शन की कहकर लेकर गए। गंगा क्षेत्र में किन्नर की उसके ही दुपट्टे से गला दबाकर हत्या कर दी और अंतिम संस्कार भी कर दिया। पुलिस ने घटना का खुलासा करते हुए शेष आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए कार्रवाई शुरू कर दी है।

Share it
Top