Home > Archived > ताज महोत्सव-काव्य-व्यंग्य की रचनाओं से गूंजा मुक्ताकाशीय मंच

ताज महोत्सव-काव्य-व्यंग्य की रचनाओं से गूंजा मुक्ताकाशीय मंच

सूर व नज़ीर को समर्पित अखिल भारतीय कवि सम्मेलन सम्पन्न

आगरा। ताजमहोत्सव के मुक्ताकाशीय मंच पर मंगलवार को सूर व नज़ीर को समर्पित अखिल भारतीय कवि सम्मेलन का आयोजन किया गया। देश के नामचीन कवियों को सुनने के लिए बड़ी संख्या में नगर के काव्यप्रेमी शिल्पग्राम में देर रात तक हास्य व्यंग्य का आनंद लेते रहे।

सम्मेलन में प्रसिद्ध कवि डॉ. अशोक चक्रधर, अंतर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त कवि सोम ठाकुर, अरुण जैमिनी, डॉ. विष्णु सक्सैना, विनीत चौहान, कविता किरन, प्रमोद तिवारी, महेश दुबे, महेंद्र अजनबी, अजात शत्रु, पूनम वर्मा, पवन आगरी, अशोक पांडेय ने अपनी चिरपरिचत शैली में एक से बढ़कर एक रचनाओं सुनाकर उनको हंसने पर मजबूर कर दिया। इससे पूर्व कार्यक्रम में सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव के भाई की पुत्रवधु अर्पणा यादव ने मंच से शास्त्रीय संगीत के सुरों में गजलों का गायन किया। गायन में अर्पणा का स्वरों पर पकड़ बता रही थी कि उनका अभ्यास कितना उच्चकोटि का है। सितार, हारमोनिय व तबले की थाप के साथ गजलों की श्रोताओं ने भरपूर प्रशंसा की। मुक्ताकाशीय मंच पर फहीम खान ने गायन, सुचिता वाजपेयी ने गज़ल, यशोदा सक्सेना ने नृत्य व रीता देव ने शास्त्रीय गायन प्रस्तुत किया।

Share it
Top