Home > Archived > कैलिया में मातृभाषा दिवस मनाया

कैलिया में मातृभाषा दिवस मनाया

उरई। जन शिक्षण संस्थान प्रा. मानव संसाधन विकास मंत्रालय भारत सरकार नई दिल्ली द्वारा साक्षर भारत मिशन योजनातंर्गत सांसद आदर्श ग्रामों हरदोई गूजर एवं कैलिया में 21 जनवरी को अंतराष्ट्रीय मातृभाषा दिवस मनाया गया। जिसमें असाक्षरों को पठन-पाठन सामग्री वितरण का कार्यक्रम की रखा गया। जिसमें शिक्षा विभाग से जिला कोआर्डीनेटर धर्मेन्द्र श्रीवास्तव एवं संस्थान के निदेशक अनिल कुमार गुप्ता की अध्यक्षता में अंतर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस एवं साक्षर भारत मिशन को सफल बनाने के उद्देश्य से यह कार्यक्रम रखा गया।

संस्थान के निदेशक अनिलकुमार गुप्ता ने जानकारी देते हुए बताया कि हिन्दी भारत की मातृभाषा है गर्व से स्वीकारते है कि हम हिन्दी भाषी है। अनेकता में एकता का स्वर हिन्दी के माध्यम से गंूजता है। जीवन में भाषा का सबसे अधिक महत्व होगा है। एक भाषा ही हमें तहजीब का विकास करती इसलिए सभी देशों की अपनी एक मूल भाषा होती है। जिसका सम्मान करना हम देशवासियों का कर्तव्य है। उन्होंने लोगों को बताया कि जनपद में चलाई जा रही साक्षर भारत मिशन स्कीम के तहत सरकार द्वारा सांसद आदर्श ग्रामों को पूर्ण रूप से साक्षर बनाना व उन्हें रोजगार के क्षेत्र में कौशल विकास से जोडऩा है जिसके तहत असाक्षर लोगों को साक्षर बनने के लिए सरकार द्वारा ग्राम स्तर पर ग्राम लोक शिक्षा केन्द्रों की स्थापना की गई है।

जहां पर 10 लोगों के बीच एक बीटी की नियुक्ति की गई है जो उनको साक्षर बनाकर होने वाली आगामी परीक्षा में सम्मलित कराने में सहयोग करेंगा। जिसमें जन शिक्षण संस्थान के द्वारा असाक्षर लोगों की सूची तैयार कर उन्हें पठन-पाठन सामग्री उपलब्ध करायी गई है। संस्थान के माध्यम से व्यवसायिक प्रशिक्षण दिलाकर उनको रोजगार से जोडऩा है। उन्होंने यह भी बताया कि आप लोग साक्षर भारत योजना के तहत आपके ग्राम में बने ग्राम लोक शिक्षा केन्द्र में जाकर अपना प्रवेश ले जिससे जनपद में साक्षरता की दर को बढाया जा सके और आप सब लोक शिक्षित होकर रोजगार से जुड़ सके। सांसद आदर्श ग्राम हरदोई गूजर में 250 एवं कैलिया में 300 असाक्षरों को प्रति लाभार्थी किताब कॉपी पेंसिल रबर कटर आदि उपलब्ध कराई।

कार्यक्रम को सफल बनाने में प्रेरकों एवं संस्थान के गौरव, रंजीत सिंह, नसरीन बानो, शैलेन्द्र प्रजापति, शिवम चौहान, आदि अधिकारियों, कर्मचारियों का विशेष योगदान रहा।

Share it
Top