Home > Archived > अनुशासन का प्रतीक है गणवेश: महापौर

अनुशासन का प्रतीक है गणवेश: महापौर

निगमायुक्त को नाम पट्टिका लगाकर किया गणवेश व्यवस्था का शुभारंभ

ग्वालियर। जिस संस्थान में हम कार्य करते हैं वहां उसका गणवेश पहनने से उसके प्रति अभिमान की भावना भी मन में आती है। साथ ही यह अनुशासन का भी प्रतीक है,इसलिए सभी अधिकारियों एवं कर्मचरियों को गणवेश का पालन करते हुए अपनी जिम्मेदारी सतर्कता से निभानी चाहिए। यह बात सोमवार को निगम मुख्यालय पर महापौर विवेक शेजवलकर ने नगर निगम के सभी अधिकारियों एवं कर्मचारियों के लिए गणवेश व्यवस्था का शुभारंभ एवं स्वास्थ्य अमले को जैकेट वितरण करते हुए कही।
इस अवसर पर सभापति राकेश माहौर, निगमायुक्त अनय द्विवेदी,महापौर परिषद सदस्य सतीश बोहरे, धर्मेन्द्र राणा, नीलिमा शिन्दे, केशव ंिसह, खेमचंद गुरवानी, अपर आयुक्त संदीप माकिन, एमएल दौलतानी, अभय राजनगांवकर सहित आदि उपस्थित थे। इस अवसर पर महापौर श्री शेजवलकर ने निगमायुक्त अनय द्विवेदी को नाम पट्टिका (बैच) लगाकर गणवेश व्यवस्था का शुभारंभ किया।

डायरी का विमोचन
इस अवसर पर नगर निगम द्वारा गत वर्ष प्रकाशित वार्षिक डायरी का विमोचन भी उपस्थित अतिथियों द्वारा किया गया। इस अवसर पर महापौर ने इसे अति महत्व पूर्ण बताया। उल्लेखनीय है कि निगम डायरी मेंं प्रदेश मंत्रिमण्डल, पार्षदगण एवं निगम से संबंधित सभी अधिकारियों एवं कर्मचारियों के फोन नम्बर सहित महत्वपूर्ण जानकारियां हंै।

स्वास्थ्य अमले को बांटी जैकेट
नगर निगम द्वारा विभिन्न वार्डों पर कार्य करने वाले सफाई संरक्षकों एवं कर्मचारियों को विधानसभावार विभिन्न रंगो का निर्धारण कर जैकेट्स का वितरण किया गया। जिसमें ग्वालियर दक्षिण विधानसभा के अंन्र्तगत आने वाले वार्डों के कर्मचारियों को हरा, ग्वालियर पूर्व विधानसभा वाले वार्डों के कर्मचारियों को नीला, उपनगर ग्वालियर विधानसभा एवं ग्रामीण विधानसभा के अंन्र्तगत आने वाले वार्डों के कर्मचारियों को नारंगी रंग की जैकेट दी गईं।

Share it
Top