Home > Archived > तीन साल से आधा दर्जन गांव अंधेरे में

तीन साल से आधा दर्जन गांव अंधेरे में

भांडेर। जनपद पंचायत भाण्डेर के अंतर्गत विद्युत मण्डल पण्डोखर क्षेत्र में आधा दर्जन से अधिक गांवों में तीन चार साल बीत जाने के बाद भी आज तक जले पडे ट्रासफार्मर विद्युत विभाग द्वारा नही बदले गये। इसे विद्युत विभाग की लापरवाही कहें या इन गॉवों के वाशिंदों का दुर्भाग्य। विगत तीन चार साल से अंधेरे में जीवन व्यतीत कर ग्राम बडेरा सोपान, उडीना, सौंजना खिरिया रामनेर, चांदनी के ग्रामीणों ने बताया कि गॉव में जल चुके ट्रास्फार्मर बदलने के लिए कई बार वरिष्ठ अधिकारियों से शिकायत कर चुके है। लेकिन विद्युत विभाग द्वारा जले ट्रास्फार्मर तो निकाल लिये गये। लेकिन आज तक नये ट्रांसफॉर्मर नहीं रखे गये। बिजली न होने से वर्षों से अंधेरे मे जीवन यापन कर रहे है। ग्रामीणजन विद्युत विभाग समेत उच्चाधिकारियों के यहॉं चक्कर काट काट कर थक कर घर बैठ चुके है। लेकिन ग्रामीणों की किसी ने नहीं सुनी। कहते है कि गेंहूं के साथ घुन भी पिसता है यह कहावत इन ग्राम वासियों पर चरितार्थ हो रही है। ग्रामीणों ने बताया कि कुछ ग्रामीणों की बदौलत बिल जमा न करने का खामियाजा बिल जमा करने वाले उपभोक्ताओं को भुगतना पड़ रहा है। बिजली बिल जमा न करने पर विद्युत विभाग द्वारा ट्रांस्फार्मर नहीं बदले गये जिस कारण तीन साल से ग्रामों में अंधेरा पसरा हुआ है।
इनका कहना है
जिन गांव वालों पर बिजली का बिल बकाया है उन लोगों के द्वारा जब पैसा जमा करा दिया जाएगा तो हम ट्रांसफॉर्मर भी बदल देंगे।
मंसूर खान
जे.ई., पण्डोखर
विद्युत मंडल

Share it
Top