Home > Archived > लक्ष्मण पंडित व पं. डालचंद को तानसेन सम्मान

लक्ष्मण पंडित व पं. डालचंद को तानसेन सम्मान

लक्ष्मण पंडित व पं. डालचंद को तानसेन सम्मान


प्रशांत शर्मा/ग्वालियर।
तानसेन संगीत समारोह में इस बार संगीत के क्षेत्र में उत्कृष्ट योगदान के लिए दो ख्यातिनाम कलाकारों को तानसेन अलंकरण प्रदान किए जाएंगे। वर्ष 2015-16 के लिए ग्वालियर घराने के प्रख्यात गायक पं. लक्ष्मण पंडित तथा वर्ष 2016-17 के तानसेन अलंकरण से सुविख्यात पखावज वादक पं. डालचंद शर्मा नई दिल्ली को सम्मानित किया जाएगा। तानसेन अलंकरण समारोह का आगाज 16 दिसम्बर को शाम 7 बजे सुर सम्राट तानसेन की समाधि परिसर में होगा। उस्ताद अलाउद्दीन खां संगीत एवं कला अकादमी के उपनिदेशक राहुल रस्तोगी ने बताया कि ब्रह्मनाद के इन दोनों मूर्धन्य साधकों को सम्मान स्वरूप दो-दो लाख रुपए की सम्मान राशि, सम्मान पट्टिका एवं शॉल, श्रीफल से नवाजा जाएगा। १६ दिसम्बर से शुरू हो रहे तानसेन संगीत समारोह में इस वर्ष पहली बार देश-विदेश के कलाकार अपनी प्रस्तुतियां देंगे। समारोह में खास बात यह रहेगी कि बेहट में होने वाली अंतिम सभा के बाद एक और संगीत सभा इसी दिन गूजरी महल में रखी गई है।

तानसेन सम्मान रोमांच से कम नहीं: एलके पंडित
तानसेन सम्मान से नवाजा जाना मेरे लिए किसी रोमांच से कम नहीं है। यह बात तानसेन सम्मान से अलंकृत होने जा रहे शास्त्रीय संगीत गायक पं. लक्ष्मण राव शंकर पंडित ने स्वदेश से चर्चा के दौरान कही। स्वर स्म्राट की स्मृति में होने वाले इस वर्ष के तानसेन समारोह में अलंकृत होने जा रहे ग्वालियर घराने के शास्त्रीय संगीत गायक पं. लक्ष्मण राव शंकर पंडित ने कहा कि तानसेन समारोह से हमारी पांच पीढिय़ा जुड़ी हुई हैं। मैं खुद भी ग्वालियर का ही रहने वाला हूं। यह सम्मान मिलना मेरे लिए गर्व की बात है और यह किसी रोमांच से कम नहीं है। उन्होंने कहा कि आज की युवा पीढ़ी को साधना करनी चाहिए। इससे संगीत की सिद्धी प्राप्त होती है।
ग्वालियर घराना अन्य सभी घरानों की गंगोत्री माना जाता है। इस घराने की गायनशैली की शुरुआत 19वीं शताब्दी में हद्दू खां, हस्सू खां और नत्थू खां नाम के तीन भाइयों ने की थी। इनके शिष्य शंकर पंडित और उनके पुत्र कृष्णराव शंकर पंडित अपने समय के दिग्गज गायकों में थे। कृष्णराव शंकर पंडित के पुत्र लक्ष्मण राव शंकर पंडित ने भी अपने पिता और दादा की तरह गायन के क्षेत्र में खूब नाम कमाया।

Share it
Top