Home > Archived > साइरस मिस्त्री को टाटा संस ने चेयरमैन पद से हटाया आइए जाने 10 प्रमुख बातें....

साइरस मिस्त्री को टाटा संस ने चेयरमैन पद से हटाया आइए जाने 10 प्रमुख बातें....

साइरस मिस्त्री को टाटा संस ने चेयरमैन पद से हटाया आइए जाने 10 प्रमुख बातें....

भारतीय- आयरिश उद्योगपति एवं “टाटा” के पूर्व चेयरमैन साइरस मिस्त्री. 4 जुलाई 1968 को जन्मे साइरस मिस्त्री की प्रारंभिक शिक्षा कैथेड्रल स्कूल से हुई एवं उच्च शिक्षा यूनिवर्सिटी ऑफ़ मुंबई, इम्पीरियल कॉलेज लंदन एवं लंदन बिज़नेस स्कूल से हुई. साइरस मिस्त्री के पिता शापूरजी पल्लोंजी समूह के प्रमुख थे. साइरस मिस्त्री को 01 सितंबर 2006 में टाटा संस बोर्ड ने टाटा की कुछ कंपनियों में निदेशक नियुक्त किया. इसके उपरान्त साइरस मिस्त्री टाटा में जुड़ने से पहले शापूरजी पल्लोंजी समूह में मैनेजिंग डायरेक्टर थे. वर्ष 2011 में टाटा समूह के डिप्टी चेयरमैन नियुक्त हुए. फिर

दिसम्बर 2012 में टाटा संस बोर्ड ने साइरस मिस्त्री को टाटा समूह का चेयरमैन नियुक्त
किया था.

लेकिन 22 अक्टूबर 2016 को टाटा संस द्वारा गठित पांच सदस्यीय सर्च कमेटी ने साइरस मिस्त्री को कार्यकाल समाप्त होने से पहले ही पदमुक्त कर दिया एवं रतन टाटा को अंतरिम चेयरमैन चुन लिया.

10 ख़ास बातें....

1. टाटा संस बोर्ड ने पांच सदस्यीय समिति का गठन किया, समिति को फरवरी 2017 तक चेयरमैन पद के लिए नया नाम देना है.

2. फरवरी 2017 तक अंतरिम चेयरमैन रतन टाटा होंगे.

3. यूरोपियन यूनियन के ब्रिटेन से अलग होने के माहौल से टाटा को यूरोपियन यूनियन देश में व्यापार करने में मुश्किल का सामना करना पढ़ रहा है.

4. टाटा स्टील को 2016 की प्रथम तिमाही में 3000 करोड़ का घाटा हुआ है.

5. टाटा टेलीसर्विसेज कंपनी से जापानी कंपनी डोकोमो के 1.2 बिलियन डॉलर के भुगतान को लेकर हुई समस्या, जापानी कंपनी डोकोमो टाटा से अलग हुई.

6. साइरस मिस्त्री ने पद भार ग्रहण करते समय कहा था की टाटा मोटर्स हर साल दो नए वाहन बाज़ार में लाएगी, लेकिन टाटा जिका (अब टेगो) और बोल्ट भारतीय बाज़ार में पकड़ नही बना सकी. यूरोपियन यूनियन का ब्रिटेन से अलग होने के माहौल से जैगुआर और लैंड रोवर ब्रांड की बिक्री प्रभावित होने का डर पर भी कोई ठोस कदम नहीं उठाया.

7. साइरस मिस्त्री का टाटा की सशक्त कंपनी टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज पर ही ध्यान केन्द्रित रहा, अन्य संघर्षरत कंपनियों पर ध्यान नही दिया.

8.

मिस्त्री के कार्यकाल के दौरान टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज को छोड़ कर अन्य कंपनियों के मुनाफे में गिरावट होने के कारण टाटा संस का मुश्किल के दौर से गुजरना.

9. टाटा स्टील यू. के. व्यापार में भारी गिरावट हुई.

10. पांच सदस्यीय समिति में रतन टाटा, वेणु श्रीनिवासन, अमित चंद्रा, रोनेन सेन एवं सुशांता भट्टाचार्य है. जो की नए चेयरमैन के लिए चिंतन करेंगे.

Share it
Top