Home > Archived > अटल योजना के लिए चुने गए देश के ४८२ नगर

अटल योजना के लिए चुने गए देश के ४८२ नगर

अटल योजना के लिए चुने गए देश के ४८२ नगर

नई दिल्ली। अटल पुनर्जीवन एवं शहरी रूपांतरण योजना (एएमआरयूटी) के लिए देश के 482 नगरों की पहचान की गई है। योजना के तहत इन नगरों में जल निकासी, शहरी परिवहन एवं सार्वजनिक तथा हरित स्थलों से संबंधित अन्य परियोजनाओं के साथ, सभी घरों में जलापूर्ति एवं सीवरेज की सुविधा उपलब्ध करायी जाएगी। योजना के लिए चिन्हित प्रत्‍येक सेवा स्‍तरीय बेहतरी योजनाओं (एसएलआईपी) की तैयारी के लिए केंद्र सरकार ने राज्‍यों और केंद्र शासित प्रदेशों को लगभग 120 करोड् जारी कर दिए हैI साथ ही प्रत्‍येक मिशन नगर को योजना की तैयारी के लिए 25 लाख रूपये की अग्रिम सहायता दी गई है।
जानकारी के अनुसार अटल योजना का मुख्य उद्देश्य तूफान जल निकासी, शहरी परिवहन एवं सार्वजनिक तथा हरित स्थलों से संबंधित अन्य परियोजनाओं से पहले सभी शहरी घरों में सेप्टेज समेत जलापूर्ति एवं सीवरेज की सुविधा उपलब्ध कराना है। केंद्र सरकार ने अब तक एक लाख से अधिक की आबादी वाले 482 नगरों की पहचान की है। इनमें उत्तर प्रदेश के 60 नगर, पश्चिम बंगाल के 59 नगर, महाराष्ट्र के ४३ नगर, मध्य प्रदेश एवं तमिलनाडु के ३२ नगर, गुजरात एवं आन्ध्र प्रदेश के 31 नगर (प्रत्येक), राजस्थान के २८ नगर, कर्नाटक के २७ नगर, बिहार के २६ नगर, हरियाणा के २० नगर, पंजाब के १६ नगर, तेलंगाना के १६ नगर, छत्‍तीसगढ़ एवं ओडिशा से ९ नगर ( प्रत्‍येक), केरल एवं झारखंड से ७ नगर (प्रत्‍येक), उत्‍तराखंड से ६ नगर, असम एवं दिल्‍ली से ४ ( प्रत्‍येक), जम्‍मू-कश्‍मीर के ३ नगर, नगालैंड एवं पुद्दुचेरी २ ( प्रत्‍येक), अंडमान एवं निकोबार द्वीप समूह, अरुणाचल प्रदेश, चंडीगढ़, दादर एवं नागर हवेली, दमन एवं दीव, गोवा, हिमाचल प्रदेश, लक्षद्वीप, मणिपुर, मेघालय, मिजोरम, सिक्किम एवं त्रिपुरा (1-1 प्रत्‍येक) शामिल हैं। शहरी विकास मंत्रालय का कहना हैं कि अभी 18 और नगरों का चयन होना बाकी हैI इन नगरों को मुख्‍य नदियों की धाराओं पर बसे नगरों, पहाड़ी राज्‍यों एवं पर्यटन वाले नगरों से चुना जाएगा।

Share it
Top