Home > Archived > लापरवाही को उजागर करे मीडिया: श्रीमन शुक्ला

लापरवाही को उजागर करे मीडिया: श्रीमन शुक्ला

गुना। सकारात्मक पहलू और सोच अच्छी बात है। लेकिन शहरी क्षेत्र के विकास से जुड़े हुए मुद्दे पर नकारात्मकता नजर आए मीडिया मेरी और प्रशासन की आलोचना करने में परहेज नहीं करे। विकास में हो रही चूक और लापरवाही जब तक उजागर नहीं होगी। उनकी अधोसंरचना को सुधारना मुश्किल है। यह बेवाकी भरा बयान सोमवार को कलेक्टर श्रीमन शुक्ला ने पत्रकारों से अनौपचारिक चर्चा के दौरान दिया। इस दौरान पत्रकारों ने शहरी विकास से जुड़े हुए कई मुद्दे रखने के साथ ही अपने महत्वपूर्ण सुझाव भी इस बीच रखे। पिछले कई दिनों से शहर में साफ-सफाई व्यवस्था का बुरा हाल है। एक भी इलाका ऐसा नहीं जहां के रहवासी अटी पड़ी गंदगी से बेहाल न हो। सफाई व्यवस्था में सुधार करने के लिए दो दिन पहले कलेक्टर ने अंबेडकर भवन में सफाई कामगारों की बैठक लेकर उन्हें अपने काम के लिए प्रोत्साहित किया था। लेकिन उनकी नसीहत काम नहीं आई। बाद में वह नगरपालिका के अमले के साथ खुद श्रीराम कालोनी में गंदगी का जायजा लेने पहुंचे। इसके साथ ही उन्होंने शहरी क्षेत्र के उन स्थानों को चिंहित किया था। जिनमे गंदगी की भरमार है। लेकिन सीएमओ को साफ-सफाई व्यवस्था दुरूस्त करने दिए निर्देश कारगर सिद्ध नहीं हुए। यही वजह है, कि तमाम क्षेत्र अभी गंदगी से मुक्त नहीं हो सके हैं। पत्रकारों ने इसी मुद्दे को एक बार फिर कलेक्टर के समक्ष रखा। कलेक्टर का जबाव था, कि वह पहले तक प्रशासनिक कार्यो में व्यस्त थे। लेकिन इसका बीड़ा अब उन्होंने खुद अपने हाथों में लिया है। उन्होंने इस बात को खुलेतौर पर जाहिर करते हुए कहा कि मेरे फेवर की न्यूज कवर करने के साथ ही अगर प्रशासनिक तंत्र में किसी तरह की भी कोई चूक या गड़बड़ी हो रही है। उसकी आलोचना बेवाकी तरह से की जाए।
गंदगी को करें उजागर
कलेक्टर शुक्ला ने कहा कि वह पूरे शहर में मानीटरिंग नहीं कर सकते। इस काम को मीडिया बखूबी तरह से अंजाम दे सकती है। गंदगी कहां-कहां फैली हुई। उसे अखबारों में प्राथमिकता के साथ उजागर करें। मीडिया की सजगता से ही मैं शहर की सफाई व्यवस्था पर नजर रख सकता हूं।
गोपीसागर को बनाया जा रहा हेरीटेज
गोपीसागर को हेरीटेज बनाने के लिए प्रशासन प्रयासरत है। तत्कालीन कलेक्टर मुकेशचंद गुप्ता ने गोपीसागर बांध को पर्यटन क्षेत्र में आगे बढ़ाने के जो सार्थक प्रयास किए थे। उन्हें नए सिरे से आगे बढ़ाया जा रहा है। कलेक्टर ने बताया कि बांध का रोडमेप तैयार कर लिया गया है। इसे पूरी तरह से पर्यटन क्षेत्र में तब्दील करने का जिम्मा एडीएम नियाज अहमद को सौंपा गया है। चर्चा के दौरान पत्रकारों ने बजरंगगढ़, बीसभुजा, पाडोन, केदारनाथ, भूराखो, के क्षेत्रों को पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने के सुझाव कलेक्टर को दिए।

Share it
Top