Home > Archived > तीन साल से विषय शिक्षकों का इंतजार

तीन साल से विषय शिक्षकों का इंतजार

सोंईकलां के हायर सेकेण्डरी स्कूल में अब तक पदस्थ नहीं हो सके शिक्षकविद्यार्थी पढ़ाई के लिए जिला मुख्यालय का रास्ता नापने को मजबूर

श्योपुर। विगत 2012 में सोंईकलां पंचायत में हायर सेकेण्डरी स्कूल की शुरुआत हो गई, ताकि क्षेत्र के विद्यार्थियों को पढ़ाई के लिए जिला मुख्यालय की दूरी तय न करनी पड़े, लेकिन हालात इसके विपरीत हंै तीन साल गुजर जाने के बाद भी विद्यालय में 11वीं व 12वीं कक्षा के विषय पढ़ाने के लिए शिक्षकों की पदस्थापना अब तक नहीं हुई है जिसके चलते विद्यार्थी श्योपुर का रास्ता नापने को मजबूर हंै।शासन द्वारा एक ओर तो गांव में शिक्षा के स्तर को बढ़ावा देने के लिए हाई स्कूल से लेकर हायर सेकेण्डरी स्कूल खोले जा रहे हैं, लेकिन दूसरी ओर स्कूलों में विषय विशेष को लेकर शिक्षकों की पदस्थापना को भरने में रुचि नहीं ली जा रही। ऐसे में ग्रामीण क्षेत्र के बच्चों में विद्या पाने की ललक महज सपना बनी हुई है।गांव सोंईकलां में वर्ष 2012 में हायर सेकेण्डरी विद्यालय की शुरूआत की गई थी, ताकि सोंई सहित आस- पास की पंचायत क्षेत्र के विद्यार्थी जिला मुख्यालय की 10 से 15 किमी. की दूरी तय न करते हुए अपने गांव में ही शिक्षा हासिल कर सकें। विद्यालय तो शुरू हो गया तथा यहां एग्रीकल्चर, कॉमर्स व बॉयोलॉजी विषय की कक्षाएं लगने के साथ ही विद्यार्थियों का जमावड़ा लगने लगा, लेकिन विद्यार्थियों की आशाएं उस समय धरी रह गई, जब यहां कक्षाएं तो लगीं, लेकिन विषय पढ़ाने के लिए शिक्षक नहीं आए। इस स्थिति को तीन साल गुजर गए हैं, लेकिन अब तक यहां शिक्षकों की नियुक्ति नहीं हो पाई है।ऐसे में क्षेत्र के विद्यार्थी विद्यालय में एडमिशन लेने के बाद प्रायवेट कोचिंग के लिए शहर में आते हैं। अब जबकि नया शिक्षण सत्र लग चुका है तथा डेढ़ माह बाद से विद्यालय भी खुल जाएंगे, ऐसे में विद्यालय में शिक्षकों की नियुक्ति को लेकर कोई भी कार्यवाही न होने से विद्यार्थी व उनके अभिभावक चिंतित हैं। इस संबंध में विद्यालय प्राचार्य जीएस आशावत का कहना है कि विद्यालय में शिक्षकों की नियुक्ति को लेकर विभाग को बताया जा चुका है, लेकिन अब तक कोई भी शिक्षक की ज्वाइनिंग नहीं हो पाई है।

Share it
Top