Home > Archived > तिब्बत में खतरनाक रफ्तार से पिघल रहे हैं ग्लेशियर

तिब्बत में खतरनाक रफ्तार से पिघल रहे हैं ग्लेशियर


बीजिंग | चीन के ग्लेशियर खासकर तिब्बत क्षेत्र वाले ग्लेशियर में पिछले 65 वषरें में करीब 7,600 वर्ग किलोमीटर (करीब 18 प्रतिशत) के ग्लेशियर गायब हो गए हैं और माउंट एवरेस्ट के आधार शिविर के पास भी बर्फ की मोटी परत प्रदूषण के बढ़ते स्तर की वजह से गायब हो गयी हैं और वहां केवल पथरीली जमीन बची है।
एक चीनी अधिकारी ने बताया कि 1950 के बाद से हर साल 247 वर्ग किलोमीटर बर्फीले ग्लेशियर गायब हो रहे हैं। यहां तक कि माउंट कोमोलांगमा (एवरेस्ट का तिब्बती नाम) के पर्वतारोही भी हैरान हैं। तिब्बत के पर्वतारोहण प्रशासन केंद्र के निदेशक झांग मिंगशिंग ने कहा कि समुद्र स्तर से 5,200 मीटर ऊपर स्थित कोमोलांगमा आधार शिविर पर बर्फ की मोटी चादर थी, लेकिन अब वहां कुछ नहीं है केवल पत्थर हैं। चीन में 46,000 से अधिक ग्लेशियर हैं जो दुनिया के कुल ग्लेशियर का करीब 14.5 प्रतिशत है। इनमें से ज्यादातर किंगहाई-तिब्बत पठार में हैं।
ग्लेशियर न सिर्फ ताजे पानी के बड़े भंडार होते हैं, साथ ही जलवायु प्रणाली के महत्वपूर्ण भाग भी होते हैं। चीन के ग्लेशियर का सर्वेक्षण करने वाले दल के नेतृत्वकर्ता लियू शियिन ने कहा कि ग्लेशियर पिघलने की वजह से आपदाएं आएंगी।


Share it
Top