Home > Archived > 'लिंग परीक्षण कराने वालों पर भी हो कार्रवाई'

'लिंग परीक्षण कराने वालों पर भी हो कार्रवाई'

पीसी-पीएनडीटी एक्ट की सलाहकार समिति की बैठक आयोजित

ग्वालियर। भ्रूण लिंग परीक्षण करने वाले अल्ट्रासोनोग्राफी सेन्टर के साथ-साथ करवाने पहुंचे उन अभिभावकों पर भी पीसी-पीएनडीटी एक्ट के अनुसार पुलिस कार्रवाई करे,जो अपने परिवार की गर्भवती महिला का भ्रूण लिंग परीक्षण कराना चाहते हैं। यह निर्देश जिलाधीश पी. नरहरि ने गर्भधारण एवं प्रसव पूर्व निदान तकनीकी अधिनियम पीसी-पीएनडीटी के अनुसार गठित जिला स्तरीय सलाहकार समिति की बैठक में गुरुवार को कलेक्ट्रेट में मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को दिए।
श्री नरहरि ने यह भी निर्देश दिए कि पीसी-पीएनडीटी एक्ट के उल्लंघन करने वालों के खिलाफ विचाराधीन न्यायालयीन प्रकरणों में मजबूती से पैरवी कर दोषियों को दण्ड दिलाएं। साथ ही जिन प्रकरणों में न्यायालय से स्थगन मिला हुआ है उनमें ठोस साक्ष्य और अपना पक्ष रखकर स्थगन हटवाएं।
सलाहकार समिति की बैठक में गजराराजा चिकित्सा महाविद्यालय की सीटी स्केन मशीन का पंजीयन करने की अनुमति दी गई और यूएसजी प्रयास चिल्ड्रन हॉस्पिटल ग्वालियर के आवेदन को भी मान्य किया गया। इसके अलावा नई अल्ट्रासोनोग्राफी मशीनों के पंजीयन के सम्बन्ध में आए अन्य आवेदनों पर भी बैठक में विचार किया गया। श्री नरहरि ने स्पष्ट किया कि उन्हीं संस्थाओं को पंजीयन दिया जाए जो पीसी-पीएनडीटी एक्ट के अनुसार निर्धारित प्रावधानों को पूरा करते हों।
बैठक में सभापति डॉ.अनीता श्रीवास्तव व श्रीमती मधु भारद्वाज, डॉ.पंकज यादव, डॉ.अमृता मेहरोत्रा, डॉ.आर के.चतुर्वेदी, प्रभारी डीपीओ अनिल मिश्रा, डॉ.के.एन.शर्मा, डॉ.ज्योति बिंदल, डॉ.व्ही.के. कुन्दवानी सहित समिति के अन्य सदस्यगण व मुख्य चिकित्सा व स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.अनूप कम्ठान व सिविल सर्जन डॉ.डी.डी.शर्मा मौजूद थे। 

Share it
Top