Home > Archived > तीन कमरे के विद्यालय को बना दिया परीक्षा केन्द्र

तीन कमरे के विद्यालय को बना दिया परीक्षा केन्द्र

न बैठने के लिए पर्याप्त जगह और न कमरों की हालत ठीक

आलमपुर। आगामी दो एवं तीन मार्च से शुरू हो रही हाईस्कूल व हायर सेकेण्डरी की वार्षिक परीक्षओं के लिए शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने आलमपुर कस्बे में एक ही परीक्षा केन्द्र बनाया है। शा. कन्या हाईस्कूल में बनाए गए परीक्षा केन्द्र पर शा. कन्या हाईस्कूल आलमपुर, शा. उमावि आलमपुर, शा. हाईस्कूल रूरई, शा. हाईस्कूल गांगेपुरा, जी.पी. हाईस्कूल आलमपुर तथा सरस्वती विद्या मन्दिर आलमपुर आदि स्कूलों के करीब चार सैकड़ा विद्यार्थी परीक्षा देंगे। खास बात यह है कि शिक्षा विभाग के जिन अधिकारियों ने आंखें बंद कर शा. कन्या हाईस्कूल में आलमपुर सहित आस-पास के गांव के सरकारी तथा निजी विद्यालयों का परीक्षा केन्द्र बनाया हे, उस शा. कन्या हाईस्कूल के परीक्षा केन्द्र पर इतने परीक्षार्थियों का बैठ पाना मुश्किल है क्योंकि शा. कन्या हाईस्कूल में एक कार्यालय कक्ष और तीन कमरे हैं, वह भी काफी छोटे हैं, जिसमें शा. कन्या हाईस्कूल की छात्राएं भी ठीक से नहीं बैठ पाती हैं। ऐसी स्थिति में आधा दर्जन विद्यालयों के करीब चार सैकड़ा परीक्षार्थी परीक्षा कैसे देंगे? शिक्षा विभाग से जुड़े लोगों ने स्वदेश को बताया कि पूर्व में आलमपुर कस्बे में शा. उमावि तथा शा. कन्या हाईस्कूल में दो अलग-अलग परीक्षा केन्द्र बनाए जाते रहे हैं, लेकिन इस बार शिक्षा विभाग के अधिकारियों द्वारा आलमपुर कस्बे में तीन कमरे के विद्यालय को आधा दर्जन विद्यालयों का परीक्षा केन्द्र बना दिया गया है।
कमरे जर्जर, पसरा है अंधेरा
आगामी दो एवं तीन मार्च से होने जा रही 10वीं एवं 12वीं की वार्षिक परीक्षाओं के लिए आलमपुर कस्बे में बनाए गए कन्या हाईस्कूल के जिस परीक्षा केन्द्र में परीक्षार्थी परीक्षा देंगे, उस परीक्षा केन्द्र के कमरों की हालत बहुत ही दयनीय है। कमरे जहां जर्जर हालत में हैं वहीं कमरों में अंधेरा पसरा हुआ है। परीक्षा के दौरान परीक्षार्थियों को बड़ी परेशानी का सामना करना पड़ सकता है।
शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने भवन अभाव ग्रस्त शा. कन्या हाईस्कूल को आलमपुर कस्बे का इकलौता परीक्षा केन्द्र जरूर बना दिया है, लेकिन परीक्षा के दौरान शा. कन्या हाईस्कूल भवन में आधा दर्जन विद्यालयों के करीब चार सैकड़ा परीक्षार्थियों की परीक्षा के दौरान नहीं बैठ पाते हैं तो केन्द्र अध्यक्ष द्वारा समीप में स्थित शा. कन्या मा.वि. की पुरातत्वकालीन इमारत में परीक्षार्थियों को बैठाने की व्यवस्था की जा सकती है, लेकिन विधानसभा चुनाव के दौरान शा. कन्या मा.वि. की इमारत में बनाए गए मतदान केन्द्र को शा. कन्या मा.वि. की इमारत से इसलिए स्थानांतरित कर दिया था क्योंकि शा. कन्या मा.वि. की इमारत जर्जर हालत में पहुंच चुकी है। यदि इस दौरान केन्द्र अध्यक्ष परीक्षा के दौरान शा. कन्या मा.वि. में परीक्षार्थियों को परीक्षा दिलाने के लिए बैठाते हैं तो परीक्षार्थियों की जान भी खतरे में रहेगी।

Share it
Top