Home > Archived > अब भी 25 प्रतिशत खाते लिंक नहीं

अब भी 25 प्रतिशत खाते लिंक नहीं

डीबीटीएल के नाम पर परेशान होते उपभोक्ता

ग्वालियर। केन्द्र सरकार द्वारा लागू की गई डीबीटीएल (डायरेक्ट बेनीफिट ट्रांसफर एलपीजी) योजना ग्राहकों के लिए परेशानी का सबब बन गई। वर्तमान में 75 प्रतिशत उपभोक्ता ही मुश्किल से इस योजना से जुड़ सके हैं जबकि जानकारी व अन्य कारणों के अभाव में 25 प्रतिशत उपभोक्ता अभी तक लिंक नहीं हो सके हैं। वहीं गैस कम्पनियों का कहना है कि ऐसे खाते जो डिफॉल्टर की श्रेणी में आते हैं उनके खातों को शीघ्र ही बंद कर दिया जाएगा। जिससे सही उपभोक्ता के पास गैस सिलेण्डर पहुंच सके। ऐसे उपभोक्ता जो 31 मार्च तक लिंक नहीं होंगे उन्हें एक अप्रैल से बाजारू मूल्य पर ही रसोई गैस सिलेण्डर खरीदना होगा।
उल्लेखनीय है कि गैस खाता लिंक करने की अवधि को 31 मार्च तक निर्धारित किया गया है। लेकिन जिलाधीश के आदेशानुसार खाता लिंक करने के लिए 20 फरवरी तक का समय दिया गया था। लेकिन अभी तक मात्र 75 प्रतिशत ही खाते लिंक हो पाए हैं। इसका मुख्य कारण सैंकड़ों की संख्या में फर्जी खातों का होना है। वर्तमान समय में जिले में 25 से 28 गैस एजेंसियां हैं जिनमें तीन से चार लाख उपभोक्ता जुड़े हुए हैं। सबसे अधिक ग्राहक इण्डेन गैस के हैं।
इस स्लेब से होगा ट्रांजेक्शन
बैंको द्वारा सब्सिडी के रूप में लाखों रुपए का ट्रांजेक्शन प्रतिदिन किया जा रहा है। जिस कारण बैंक का सर्वर बार-बार ठप हो रहा है। अत: लोगों के खातों में सब्सिडी देर से पहुंच रही है। सब्सिडी पहुंचने में 10 से 12 दिन का समय लग रहा है। वहीं सरकार ने माह में एक से पांच तारीख, 15 से 20 तारीख एवं 25 से 30 तारीख सब्सिडी ट्रांजेक्शन के लिए निर्धारित की है।
31 मार्च तक है ग्रेस पीरियड
ऐसे उपभोक्ता जिनका खाता अभी तक लिंक नहीं हुआ है उन्हें 31 मार्च तक का समय दिया है। इस दौरान खाता लिंक नहीं कराने पर महंगे दामों पर गैस सिलेण्डर खरीदना होगा। जब तक खाता लिंक नहीं होगा तब तक उपभोक्ता की सब्सिडी गैस एजेंसी संचालक के पास ही जमा रहेगी।

इनका कहना है

इण्डेन कम्पनी के सेल्स ऑफीसर विक्रम सिंह भदौरिया ने बताया कि अभी तक 75 प्रतिशत ही खाते लिंक हो पाए हैं। शेष खाते वह हैं जिनमें कई प्रकार की तकनीकि समस्या हैं। कई ग्राहकों के खाते तो हैं लेकिन वे अब शहर में रह नहीं रहे हैं। हमारा प्रयास है कि हम उनसे मिलकर शीघ्र ही उनके खातों को समय के अंदर लिंक कराएंगे। श्री भदौरिया ने कहा कि गेपिंग पीरियड होने के कारण कई खातों में सब्सिडी देर से पहुंच रही है। इस पीरियड को हम शीघ्र ही कम करेंगे। हमारा प्रयास रहेगा कि 7 दिन के अंदर ही उपभोक्ताओं के खातों में सब्सिडी पहुंचने लगे। 

Share it
Top