Home > Archived > अटल जी भारतीय विचार और सांस्कृतिक समृद्धि के दर्पण

अटल जी भारतीय विचार और सांस्कृतिक समृद्धि के दर्पण

भोपाल। पूर्व प्रधानमंत्री अटलबिहारी वाजपेयी के जन्मदिन को सुशासन दिवस के रूप आयोजित कर भाजपा ने जनोन्मुखी योजनाओं को धरातल पर उतारकर जन-जन को सुशासन की अनुभूति देने का संकल्प लिया।
प्रदेश कार्यालय में आयोजित सुशासन दिवस के अवसर पर परिसंवाद को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि श्री अटलजी भारतीय विचार और सांस्कृतिक समृद्धि के दर्पण हैं। उन्होंने भारत के विचार को, सोच को जीवन में उतारा और समाज के समक्ष एक आदर्श आचरण प्रस्तुत किया है। भारतीय राजनीति में गठबंधन शिल्प को सफल बनाते हुए सबको साथ लेकर चलने की कला सिखाई, सर्वधर्म समभाव को सच करके दिखाया। पूर्व में मुख्यमंत्री श्री चौहान, नंदकुमार सिंह चौहान, अरविन्द मेनन, विजेश लूनावत, विश्वास सारंग, रामेश्वर शर्मा, डॉ. हितेश वाजपेयी, सुरेन्द्रनाथ सिंह, ओम यादव एवं राहुल कोठारी सहित जिले के नेताओं ने महापुरुषों के चित्रों पर पुष्पांजलि अर्पित की और दीप प्रज्जवलित किया।
अटलजी सरलता व सादगी की प्रतिमूर्ति हंै
भाजपा प्रदेश अध्यक्ष व सांसद नंदकुमार सिंह चौहान ने कहा कि अटल बिहारी वाजपेयी जैसे नेतृत्व को पाकर वास्तव में हम गौरवान्वित हुए हंै। उन्होंने देश में 24 दलों को साथ लेकर जहां क्षेत्रीय भावना को राष्ट्रीयता के सूत्र में पिरोने का काम किया, वहीं एनडीए सरकार का नेतृत्व करते हुए देश को प्रगति के शिखर पर पहुंचाया और सुशासन के प्रतीक बने। नंदकुमार सिंह चौहान ने कहा कि श्री अटलबिहारी वाजपेयी जी सादगी और सरलता की प्रतिमूर्ति हंै।
अटलजी के आदर्श जीवन में उतारें
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि सुशासन जनता का अधिकार है और हमें इसे सुनिश्चित करने के लिए व्यक्तिगत रूप से दायित्व का निर्वाह करना पड़ेगा। हर कार्यकर्ता प्रदेश की एक-एक योजना को लेकर उसे धरातल पर उतारे, जनता के बीच जाये और योजना का लाभ पहुंचाकर देंखें कि उसके जीवन के स्तर में क्या सुधार हो रहा है? सुशासन को मूर्तरूप देने में पार्टी कार्यकर्ताओं और नेताओं की भूमिका निर्णायक होगी। श्री अटलजी ने सबका मंगल और सबके कल्याण की कामना की और उसे पूरा करके दिखाया। हमें भी उसी रास्ते पर चलना होगा।

Share it
Top