Home > Archived > लिपिक ने अध्यक्ष, उपाध्यक्ष को ठहराया गलत

लिपिक ने अध्यक्ष, उपाध्यक्ष को ठहराया गलत

ब्लीचिंग सप्लाई मामला, कहा-जांच में ब्लीचिंग पाउडर की हुई पुष्टि

शिवपुरी। ब्लीचिंग पाउडर के स्थान पर शहर को चांदपाठा के दूषित पेयजल के शुद्धिकरण हेतु चूना सप्लाई किये जाने के मामले में एक नया मोड आ गया है। नगर पालिका में जल शाखा में पदस्थ लिपिक पुरेन्द्रर सिंह राणा ने नपा अध्यक्ष मुन्नालाल कुशवाह और उपाध्यक्ष अन्नी शर्मा के इस दावे को गलत बताया है कि ब्लीचिंग पाउडर के स्थान पर नगर पालिका को चूने की सप्लाई की जा रही है। श्री राणा के अनुसार नगर पालिका के टेक्नीशियन राजीव भाटिया ने जांच कर ब्लीचिंग पाउडर होने की पुष्टि की है। हालांकि इस संबंध में नगर पालिका के वरिष्ठ अधिकारियों से संपर्क नहीं हो सका।
श्री राणा ने बताया कि नगर पालिका ने ऑनलाईन टेंडर के जरिये ब्लीचिंग पाउडर सप्लाई हेतु कोटा की फर्म नेहा सेल्स को अधिकृत किया है। अभी तक नेहा सेल्स ने 40 टन ब्लीचिंग पाउडर की सप्लाई नगर पालिका को कर दी है। जबकि नपा उपाध्यक्ष अन्नी शर्मा का स्पष्ट कथन है कि ब्लीचिंग पाउडर के स्थान पर चूना सप्लाई कर न केवल नगर पालिका के राजस्व को चूना लगाया जा रहा था। बल्कि जनता के स्वास्थ्य के साथ भी खिलवाड़ किया जा रहा था। उनके अनुसार जिस ट्रक को उन्होंने और नपा अध्यक्ष मुन्नालाल कुशवाह ने जप्त किया है उसमें ब्लीङ्क्षचग पाउडर के स्थान पर चूने के बैंग है। उन्होंने बताया कि जब कथित ब्लीचिंग पाउडर को पानी में डाला गया तो उसके बड़े बड़े डेले बन गए जबकि ब्लीचिंग पाउडर पानी में डालने पर तुरंत घुल जाता है। उनके अनुसार ब्लीचिंग पाउडर के स्थान पर चूना सप्लाई करने से सीधे-सीधे ठेकेदार को चार लाख रुपए से अधिक का मुनाफा होता है।
महीनों से चल रही थी दूषित पेयजल की सप्लाई : नपा उपाध्यक्ष अन्नी शर्मा का कहना है कि कुछ दिनों पहले एक अभिभाषक चौहान कांच की बोटल में पेयजल भरकर लाये वह जल पीला और दूषित था। उन्होंने बताया कि उनके यहां कई दिनों से इस तरह का गंदा और बदबूदार जल सप्लाई किया जा रहा है। इसके बाद जब वह वार्ड 15 में गए तो वहां एक ब्राह्मण महिला ने गंदा पानी सप्लाई किये जाने की शिकायत की जब इस बारे में उपयंत्री केएम गुप्ता से उन्होंने चर्चा की तो श्री गुप्ता का जवाब था कि फिल्टर प्लांट से शुद्ध और साफ पानी सप्लाई किया जाना है। उनके अनुसार बदबूदार जल सप्लाई का कारण यह है कि उपभोक्ता की पाईप लाइन लीकेज होकर सीवेज से मिल गई है। लेकिन अन्नी शर्मा इससे संतुष्ट नहीं हुए।
उपाध्यक्ष ने दूध का दूध, पानी का पानी करने का लिया निर्णय : इसके बाद उपाध्यक्ष अन्नी शर्मा ने नपा कर्मचारी राणा को हिदायत दी कि जब भी ब्लीचिंग पाउडर का ट्रक आये मुझे जानकारी देना। कल ट्रक आने पर श्री राणा ने श्री शर्मा को जानकारी दी तो नपा उपाध्यक्ष मौके पर पहुंच गए और उन्होंने नपाध्यक्ष मुन्नालाल कुशवाह को भी बुलबा लिया। इसके बाद फिल्टर प्लांट पर ट्रक को अनलोड कर जांच के लिए सैम्पल लैब भेज दिया और स्वयं भी देशी तकनीक से ब्लीचिंग पाउडर की जांच की।
चूना और ब्लीचिंग पाउडर में फर्क : गुणवत्ता की दृष्टि से चूना और ब्लीचिंग पाउडर में फर्क है। ब्लीचिंग पाउडर बुझे चूने में क्लोरीन की क्रिया से बनता हैं। क्लोरीन के कारण ही इसका बिरंजन गुण प्रबल होता है। जैसे-जैसे समय बीतता जाता है ब्लीचिंग पाउडर में से क्लोरीन कम होती जाती है और उसका बिरंजन गुण भी कम होता जाता है। टैक्नीशियन के अनुसार कल नपा पदाधिकारियों ने कथित ब्लीचिंग पाउडर के जिस ट्रक को पकड़ा है। उसमें या तो विशुद्ध रूप से चूना है या ब्लीचिंग पाउडर भी है तो समय के अंतराल के साथ-साथ उसकी गुणवत्ता कम हो गई है। जिससे यह पानी साफ करने के लिए उतना प्रभावकारी नहीं रहा है और शहर में धड़ल्ले से दूषित मलमूत्र युक्त पेयजल की सप्लाई की जा रही है और नागरिकों के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है।
क्लोरीन पानी में मौजूद बैक्टीरिया और वायरस का नाश कर दूषित पानी को पीने योग्य बनाता है।

Share it
Top