Home > Archived > कुलपति व प्राध्यापक से भिड़े कार्यपरिषद के सदस्य, कार्यपरिषद सदस्य के खिलाफ निंदा प्रस्ताव पारित

कुलपति व प्राध्यापक से भिड़े कार्यपरिषद के सदस्य, कार्यपरिषद सदस्य के खिलाफ निंदा प्रस्ताव पारित


ग्वालियर। जीवाजी विश्वविद्यालय में गुरुवार को आयोजित कार्यपरिषद की बैठक हंगामे की भेंट चढ़ गई। बैठक में प्री एण्ड पोस्ट के मुद्दे को लेकर विश्वविद्यालय कुलपति प्रो. संगीता शुक्ला एवं प्रो. ऐ.के. श्रीवास्तव का कार्यपरिषद सदस्य अजीत भदौरिया से जमकर विवाद हुआ। इस पर अजीत भदौरिया ने कुलपति प्रो. संगीत शुक्ला को अपशब्द कह डाले।
गुरुवार को जीवाजी विवि में कार्यपरिषद की बैठक में कुलपति प्रो. संगीता शुक्ला की अध्यक्षता में हुई, जिसमें परीक्षा और गोपनीय कार्य के लिए सर्वसम्मति से प्री एण्ड पोस्ट का टेंडर पास हुआ, लेकिन संयुक्त संचालक लेखा देवेन्द्र गुप्ताऔर कार्यपरिषद सदस्य अजीत भदौरिया ने इस टेंडर पर आपत्ति जताई। इस पर कुलपति व प्रो. श्रीवास्तव का कार्यपरिषद सदस्य अजीत भदौरिया से जमकर विवाद हुआ और श्री भदौरिया बीच बैठक से उठकर चले गए। इसके बाद पूरी परिषद ने कार्यपरिषद सदस्य अजीत भदौरिया के खिलाफ निंदा प्रस्ताव पारित किया जो राज्यपाल को भेजा जाएगा। बैठक में सर्वसम्मति से नकल निराकरण समिति का गठन किया गया, जिसमें प्रो. अशोक जैन, हेमंत शर्मा, नलिनी श्रीवास्तव और केआरजी महाविद्यालय की प्राचार्य सरोज मोदी को समिति में शामिल किया गया है।


15 नवम्बर तक होगी बैकलॉग परीक्षाएं

बैठक में कार्यपरिषद सदस्य गायत्री मंडेलिया को आश्वासन दिया गया कि 15 नवम्बर तक बैकलॉग की परीक्षाएं करा दी जाएंगी। इसके अलावा श्रीमती मंडेलिया ने बोस्टन महाविद्यालय, प्रेस्टीज महाविद्यालय और जैन महाविद्यालय की जानकारी भी मांगी है। बैठक के दौरान कुलसचिव आंनद मिश्रा एवं प्रो. ए.के. सिंह के बीच भी जैन महाविद्यालय में नियुक्ति को लेकर बहस हो गई।

Share it
Top