Home > Archived > कलेक्ट्रेट परिसर में धारा 144 लागू

कलेक्ट्रेट परिसर में धारा 144 लागू

अशोकनगर | कलेक्टर एवं जिला मजिस्टे्रट अरूण कुमार तोमर द्वारा दण्ड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 144 के अन्र्तगत प्रदत्त शक्तियों का उपयोग करते हुये कलेक्ट्रेट अशोकनगर के सम्पूर्ण परिसर में 7 अक्टूबर से आगामी आदेश तक के लिए वर्णित क्षेत्र में निषेधाज्ञायें लागू की गई है। जारी आदेशानुसार प्रतिबंधित क्षेत्र में कोई भी व्यक्ति, संस्था, राजनैतिक दल, संगठन, द्वारा किसी भी प्रकार के सार्वजनिक जुलूस, रैली प्रदर्शन, आमसभा नही करेगे और न ही उसमें शामिल हो सकेगे।
पांच या इससे अधिक व्यक्ति कलेक्टे्रट परिसर में एक उदद्ेष्य हेतु इक्ठठा नही होंगे। किसी भी व्यक्ति द्वारा विस्फोटक पदार्थ को किसी भी प्रकार से परिसर में न तो लायेगे, न ही कब्जे में रखेगे और न ही उसका किसी भी प्रकार का उपयोग करेगे। कोई भी व्यक्ति (अस्त्र-षस्त्र लाइसेंसधारी भी) किसी भी प्रकार का अग्नेय घातक अस्त्र- शस्त्र, धारदार हथियार तलवार, छुरा, वल्लम, भाला,तीरकमान, चेन, तेजाब, विस्फोटक पदार्थ अथवा ज्वलनशील पदार्थ को लेकर परिसर मे ंबिना अनुमति के आयेगे और न ही ईट, पत्थर, रोड़े आदि का किसी भी प्रकार से प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष एकत्रीकरण नही करेंगे। कलेक्टे्रट के सम्पूर्ण परिसर एवं पॉलीटेक्निक कॉलेज तथा छात्रावास परिसर में निशेधाज्ञा पारित की गयी है। इसका उल्लंघन या अवहेलना करने पर संबंधित के विरूद्ध भारतीय दण्ड संहिता 1973 की धारा 188 के तहत कार्यवाही की जायेगी। उक्त आदेश उन लोक सेवकों पर लागू नही होगा जिन्हें अपने कर्तव्यों के निर्वहन में कार्यालय में आना जाना होता है। वे छात्र छात्राएं जो पठन पाठन कार्य के लिए आते जाते है। वे लोक सेवक जो शंाति सुरक्षा एवं अपराधों को रोकने उनके समन के लिए कार्य करते है तथा उन्हे हथियार कर आवश्यक है या इसकी उन्हें विधिवत इजाजत दी गई है। नेत्रहीन या अपाहिज व्यक्ति जिन्हें सहारे के लिए लाठी रखना नितान्त आवष्यक है वे लाठी रख सकेगे। अधिकृत बैंक कर्मचारी या अन्य अधिकारी कर्मचारी जिन्हें अपने कर्तव्य स्थल पर अपने कर्तव्य पालन में हथियार रखना आवश्यक है वे उक्त आदेश से विधिवत छूट प्राप्त करने विशयक आवेदन दे सकेगे।
मजिस्ट्रीयल जांच के आदेश
अशोकनगर। कलेक्टर अरूण कुमार तोमर द्वारा होमगार्ड सैनिक रामवीर शर्मा की मृत्यु के कारणो की मजिस्ट्रीयल जांच के आदेश दिये गये है। मजिस्ट्रीयल जांच हेतु अतिरिक्त जिला मजिस्टे्रट अशोकनगर को जांच अधिकारी नियुक्त किया गया है। जिसकी सुनवाई 21 अक्टूबर कार्यालयीन समय में अतिरिक्त जिला दण्डााधिकारी कार्यालय में नियत की गई है। उक्त संबंध में जिस किसी व्यक्ति को जानकारी हो वह अपने साक्ष्य 21 अक्टूबर को समक्ष में करा सकते है। यदि अभिलेख प्रस्तुत करना चाहते हो तो अभिलेख भी प्रस्तुत कर सकते है।

Share it
Top