Home > Archived > क्लीनिक व नर्सिंग होम को मिला नोटिस

क्लीनिक व नर्सिंग होम को मिला नोटिस

शिवपुरी। जिलाधीश राजीवचंद्र दुबे ने शहर के दो अल्ट्रासाउण्ड सेंटरों की आकस्मिक जांच में मिली कमियों के आधार पर संचालकों को नोटिस जारी किया है। उक्त नोटिस गर्भधारण व प्रसव पूर्व निदान तकनीकी (लिंग चयन प्रतिषेध) अधिनियम 1994 के प्रावधानों के तहत जारी किया गया है। संचालकों को तीन दिवस में जवाब देने के निर्देश दिए गए हैं।
जिलाधीश श्री दुबे ने डॉ. दिलीप जैन संचालक अरिहंत पैथोलॉजी व अल्ट्रासाउंड सेंटर को जारी नोटिस में कहा गया है कि आपको अल्ट्रासाउंड सेंटर संचालन की अनुमति इस आशय के साथ की गई थी कि पीएनडीटी एक्ट के समस्त नियमों का भलीभांति पालन करेंगे लेकिन 19 अगस्त को जिला प्रशासन की टीम (संयुक्त कलेक्टर श्रीमती नीतू माथुर, डॉ. एल.एस. उचारिया, मुख्य चिकित्सा व स्वास्थ्य अधिकारी) द्वारा पैथोलॉजी व अल्ट्रासाउंड सेंटर के औचक निरीक्षण में निम्न कमियां मिली।
इसी प्रकार डॉ. भगवत बंसल संचालक कल्पना एक्स-रे व अल्ट्रासाउंड आर्य समाज रोड शिवपुरी को जारी नोटिस में कहा है कि 19 अगस्त को जिला प्रशासन द्वारा अल्ट्रासाउंड सेंटर के औचक निरीक्षण में निम्न कमियां मिली- पीसी व पीएनडीटी एक्ट के अंतर्गत क्लीनिक का रजिस्ट्रेशन 11 अक्टूबर 2012 पाया गया व नवीनीकरण दिनांक 11 अक्टूबर 2010 थी। पुराने नवीनीकरण में एक्सपायरी 18 जुलाई 2011 थी इसके पश्चात नया रजिस्ट्रेशन 10 अगस्त 2011 को जारी किया गया। अत: एक्सपायरी एवं नवीनीकरण में 22 दिन का अंतर पाया गया। निरीक्षण के दौरान क्लीनिक द्वारा संधारित कैश बुक अस्थायी रूप से सादा रजिस्टर में संधारित पाई गई जिसमें स्थायी पेन के स्थान पर शीस पेंसिल द्वारा प्रतिदिन की आय राशि की एन्ट्री अंकित की गई जो नियमानुसार नहीं की गई। 

Share it
Top