Home > Archived > अपनों के निशाने पर 'दर्शन'

अपनों के निशाने पर 'दर्शन'

पदाधिकारियों ने दी सबको साथ लेकर चलने की सलाह

ग्वालियर। कांग्रेस की प्रबंध कार्यकारिणी की बैठक खासी हंगामेदार रही। सदस्यों ने शहर जिला अध्यक्ष पर पक्षपात का आरोप लगाते हुए कहा कि सभी कार्यक्रम के आयोजनों में संचालन व आभार प्रदर्शन उनके चहेते करते है। पदाधिकारियों ने उन्हें सलाह दी कि वह भविष्य में आयोजित होने वाले कार्यक्रमों में कार्यकर्ताओं को योग्यता के अनुसार अवसर दे।
प्रदेश सरकार और नगर निगम के खिलाफ आंदोलन की रणनीति तय करने के लिए शुक्रवार को कांग्रेस कार्यालय में बैठक का आयोजन किया गया था। जिसकी अध्यक्षता करते हुए जिलाध्यक्ष दर्शन सिंह ने सर्व सम्मति से 5 जुलाई को शाम 5 बजे मुरार स्थित बसस्टेंड चौराहा से मोदी सरकार की अर्थी निकालने का निर्णय लिया । इसके साथ ही बिजली के निजीकरण के विरोध में कांग्रेस द्वारा वार्डस्तर पर किए जाने वाले आयोजनों के संबंध में 6 जुलाई को ब्लाक कंाग्रेस कमेटी के अध्यक्षों, युवक कंाग्रेस, महिला कंाग्रेस, कंाग्रेस सेवादल, एनएसयूआई की सयुंक्त बैठक करने का निर्णय लिया है। वहीं सात जुलाई को सुबह 9 बजे गोले के मंदिर पर सामूहिक उपवास कर आंदोलन करने का भी निर्णय लिया गया।
बैठक के दौरान कार्यकारिणी के सदस्यों ने पार्टी के कार्यक्रमों के संचालन व आभार प्रदर्शन को लेकर अपनी आपत्ति दर्ज कराई। सूत्रों के अनुसार सदस्यों ने जिलाध्यक्ष को कांग्रेस के अन्य वरिष्ठ व योग्य कार्यकर्ताओं को साथ लेकर चलने की सलाह दी। उन्होंने कहा कि यदि ऐसे ही गुटबाजी चलती रही तो लोकसभा के बाद निगम चुनावों में भी पार्टी का सूपड़ा साफ हो जाएगा।
वरिष्ठों को मिले टिकट
कांग्रेस नेता अख्तर हुसैन कुरैशी ने कहा कि नगर निगम चुनाव में जीत हासिल करने के लिए कांग्रेस को वरिष्ठ नेताओं को टिकट देना चाहिए। उन्होंने कहा कि जो नेता विधानसभा चुनाव में टिकट की दावेदारी कर रहे थे यदि उनके वार्ड में हुए आरक्षण से वह प्रभावित नहीं हो रहे हो तो उन्हें टिकिट दिया जाए। क्योंकि ऐसे नेताओं के जीतने की संभावना ज्यादा रहेगी। 

Share it
Top