Home > Archived > लद्दाख में चीनी सैनिकों ने फिर की घुसपैठ

लद्दाख में चीनी सैनिकों ने फिर की घुसपैठ

लद्दाख में चीनी सैनिकों ने फिर की घुसपैठ

नई दिल्ली। चीन अपनी हरकतों से बाज आता नहीं दिख रहा है । उसने नई सरकार को भी आंखे दिखाना शुरु कर दिया है। भारत की सीमा से लगे चीन के सैनिक इससे पूर्व कई बार घुसपैठ कर चुकी है, आब जबकी भारत के उपराष्ट्रपति वहां के दौरे पर हैं चीनी सैनिकों ने एक बार फिर से यह दुस्साहस किया है। राजधानी पेइचिंग में भारत के उप-राष्ट्रपति हामिद अंसारी के स्वागत की तैयारी कर रहा है, लेकिन दूसरी तरफ उसके सैनिक भारतीय इलाके में घुसपैठ कर रहे हैं । इसी सप्ताह चीनी सैनिकों ने पूर्वी लद्दाख में पंगोंग झील के भारतीय इलाके में घुसकर उस पर अपना दावा जताया।
एक इंग्लिश अखबार के मुताबिक चीन की पीपल्स लिबरेशन आर्मी की बोट्स इस खारे पानी की झील के भारतीय हिस्से में साढ़े पांच किलोमीटर अंदर तक घुस आई थी। यह घटना 24 जून की है। इस झील का ज्यादातर हिस्सा तिब्बत में पड़ता है और चीन के नियंत्रण में है।
खबर के मुताबिक हाई-स्पीड इंटरसेप्टर बोट्स पर आए चीनी सैनिक दो घंटे तक रुके रहे । बाद में अमेरिका में बने इंटरसेप्टर वेसल्स पर सवार भारतीय सैनिकों ने उन्हें वापस भेजा। यह पहला मौका नहीं है, जब इस झील पर चीनी सैनिकों ने ऐसा किया है। अभी तक बारह बार चीनी और भारतीय सैनिक इस झील पर आमने-सामने आ चुके हैं। यह झील समुद्रतल से करीब 4,350 मीटर की ऊंचाई पर है । इसकी लंबाई 134 किलोमीटर है और अधिकतम चौड़ाई पांच किलोमीटर है। विवादित पंगोंग झील पर कब्जे को लेकर चीन और भारत के बीच लंबे समय से खींचतान चल रही है। 1962 की लड़ाई में भी इस झील को लेकर उठे विवाद की बड़ी भूमिका थी।
चीन चाहता है कि भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उसके यहां की यात्रा पर आएं, मगर इस तरह की घटनाएं दिखा रही हैं कि चीन के रुख में बदलाव नहीं आया है। वह लंबे अर्से से भारतीय इलाके में घुसपैठ करके उस पर दावा जताता रहा है। बीते साल भी कई मौकों पर चीनी सैनिकों ने लद्दाख में घुसपैठ की थी।


Share it
Top