Home > Archived > तीसरे मोर्चे के लिए हुआ एकजुट होने का आह्वान

तीसरे मोर्चे के लिए हुआ एकजुट होने का आह्वान

नई दिल्ली | देश में गैर कांग्रेस और गैर भाजपा का विकल्प देने की कवायद के तहत पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा के नेतृत्व में विभिन्न राजनीतिक दलों की बैठक हुई, जिसमें लोकसभा चुनाव के बाद सभी दलों से एकजुट होने का आह्वान किया गया।
देवगौड़ा के निवास पर आज सुबह करीब एक घंटे चली बैठक में माकपा महासचिव प्रकाश करात, बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (भाकपा) के पूर्व महासचिव केसी त्यागी, जनता दल सेक्युलर के महासचिव दानिश अली और रिवोल्यूशनरी सोशलिस्ट पार्टी के नेता भी मौजूद थे।
अली ने बताया कि लोकसभा चुनाव के पहले गैर भाजपा एवं गैर कांग्रेसी दलों को एकजुट करने के लिये देवगौड़ा ने अपने आवास पर यह बैठक बुलायी थी। बैठक में सभी दलों ने सांप्रदायिकता एवं भ्रष्टाचार से लड़ने के लिये तीसरी राजनीतिक शक्ति को तैयार करने पर जोर दिया।
उन्होंने बताया कि बैठक में यह भी निर्णय लिया गया कि 21 फरवरी को वर्तमान लोकसभा सत्र समाप्त होने के बाद गैर भाजपा एवं गैर कांग्रेसी दलों की एक और बैठक बुलायी जायेगी। यह पूछे जाने पर कि क्या आम आदमी पार्टी को भी इस मुहिम में शामिल किया जायेगा, अली ने बताया कि फिलहाल ऐसी कोई योजना नहीं है।
गौरतलब है कि फेडरल फ्रंट के नेताओं की एक बैठक पांच फरवरी को हुई थी, जिसमें ग्यारह दलों के प्रतिनिधियों ने भाग लिया था। इससे पहले पिछले साल तालकटोरा स्टेडियम में 14 गैर भाजपा एवं गैर कांग्रेसी दलों की बैठक हुयी थी।



Share it
Top