Home > Archived > लुप्तप्राय पक्षियों की 9 प्रजातियां चिल्का झील में दिखीं

लुप्तप्राय पक्षियों की 9 प्रजातियां चिल्का झील में दिखीं

लुप्तप्राय पक्षियों की 9 प्रजातियां चिल्का झील में दिखीं

भुवनेश्वर | लुप्त होने के कगार पर पहुंच चुकीं पक्षियों की नौ प्रजातियां इस बार की शीत ऋतु में ओडिशा की चिल्का झील में दिखीं। रविवार को समाप्त हुए सालाना पक्षी गणना में अधिकारियों ने कुल 7,19,262 पक्षियों को देखा। पिछले वर्ष यह संख्या 8,77,322 थी।
खंड वन अधिकारी (वन्यजीव) ने कहा, "गणना की एक प्रमुख बात यह थी कि हमने लुप्त होने की कगार पर पहुंच चुकी पक्षियों की नौ प्रजातियां देखीं।"
उन्होंने कहा, "ये प्रजातियां हैं रिवर टर्न, एशियन डोविचर, स्पॉट बिल्ड पेलिकन, ओरिएंटल डार्टर, यूरेशियन कल्र्यू, यूरेशियन स्पूनबिल, पलासेज फिश एज, पेंटेड स्टोर्क और ब्लैक टेल्ड गोडविट।"
पुरी, खोरधा और गंजम जिले में फैली 1,000 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में फैली झील में देश में प्रवासी पक्षियों का सबसे बड़ा जमघट लगता है। ये पक्षियां अक्टूबर में आती हैं और मार्च में वापस चली जाती हैं। इस साल झील में 158 प्रजातियां आईं, जिनमें से 99 प्रजातियां प्रवासी थीं और 59 देशी प्रजातियां थीं।

Share it
Top