Home > Archived > तेलंगाना: सीमांध्र में लगातार दूसरे दिन प्रदर्शन जारी

तेलंगाना: सीमांध्र में लगातार दूसरे दिन प्रदर्शन जारी

तेलंगाना: सीमांध्र में लगातार दूसरे दिन प्रदर्शन जारी

हैदराबाद | केंद्र सरकार के पृथक तेलंगाना राज्य के गठन की मांग को मंजूरी देने के विरोध में सीमांध्र (रायलसीमा एवं तटीय आंध्र प्रदेश) में लगातार दूसरे दिन गुरुवार को भी प्रदर्शन और बंद जारी है। सीमांध्र के सभी बड़े शहरों में लगातार दूसरे दिन दुकानें, व्यवसायिक केंद्र और शिक्षण संस्थान बंद रहे जबकि बसें भी नहीं चलीं।
केंद्र से इस फैसले को वापस लेने की मांग करते हुए सैंकड़ों प्रदर्शनकारी सड़कों पर उतर आए। उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के पुतले जलाए और केंद्र की संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) सरकार पर दबाव बनाने के लिए सभी विधायकों और सांसदों से अपनी-अपनी पार्टियों से इतर इस्तीफा दिए जाने की मांग की।
प्रदर्शनकारियों में शामिल छात्रों, राजनीतिक कार्यकर्ताओं, पेशेवर लोगों, शिक्षकों और वकीलों ने 'जय समैक्य आंध्र' व 'युनाइटेड आंध्र' का नारा लगाते हुए रैली निकाली।
रायलसीमा के कडप्पा, अनंतपुर, चित्तूर और कुरनूल एवं तटीय आंध्र के विभिन्न हिस्सों में राज्य सड़क परिवहन निगम (एपीएसआरटीसी) की बसें डिपो से बाहर नहीं निकल पाईं। सीमांध्र के कुछ स्थानों में प्रदर्शनकारियों ने बीती रात दिवंगत प्रधानमंत्रियों इंदिरा गांधी और राजीव गांधी की मूर्तियों को तहस-नहस कर दिया।
अनंतपुर, कडप्पा, कुरनूल, तिरुपति , चित्तूर, नेल्लोर, विजयवाड़ा, गुंटुर, एलुरु काकिनाड़ा, राजाहमुंदरी, विशाखापटनम, विजयनगर और अन्य शहरों में प्रदर्शन जारी है।
विजयवाड़ा में विजयवाड़ा थर्मल पावर स्टेशन (वीटीपीएस) के कर्मचारी भी इस प्रदर्शन में जुड़ गए हैं। उन्होंने कहा कि अगर राजनीतिक दल अपने पदों से इस्तीफा नहीं देते वे हड़ताल पर चले जाएंगे। वीटीपीएस राज्य की 40 फीसदी बिजली की आवश्यकता पूरी करता है।
समैक्य आंध्र संयुक्त कार्य समिति (जेएसी) ने सीमांध्र में बंद और प्रदर्शन का आह्वान किया है। जेएसी नेताओं का कहना है कि संयुक्त आंध्र पर कोई समझौता नहीं किया जाएगा।


Share it
Top