Home > Archived > लोकपाल के लिए लोगों को संगठित कर जगा रहा हूँ: अन्ना

लोकपाल के लिए लोगों को संगठित कर जगा रहा हूँ: अन्ना

बैतूल | समाज सेवी अन्ना हजारे ने कहा कि केन्द्र सरकार द्वारा आश्वासन देने के दो वर्ष बाद भी लोकपाल नहीं लाया है। इसलिए वे जनतंत्र यात्रा कर पूरे देश में घूम-घूमकर लोगों को संगठित कर जगा रहे है। उन्होंने कहा कि वे छ: करोड़ लोगों को संगठित कर एक बार फिर लोकपाल बिल लाने के लिए रामलीला मैदान में एकत्रित होंगे। जनतंत्र यात्रा पर निकले समाजसेवी अन्ना हजारे ने स्थानीय सर्किट हाउस में ये बातें कही। उनके आंदोलन की राजनीतिक भूमिका को लेकर पूछे एक सवाल के जवाब में श्री हजारे ने कहा कि संविधान में पक्ष-पार्टी का उल्लेख नहीं है। भारत का कोई भी नागरिक चुनाव लड़ सकता है। उन्होंने कहा कि लोकतंत्र आने के बाद पक्ष पार्टियों को बर्खास्त होना था, परंतु ऐसा नहीं हुआ।
जनतंत्र, जागरण यात्रा के मकसद के बारे में अन्ना हजारे ने कहा कि देश में भ्रष्टाचार बढ़ गया है। कुछ हद तक रोकने का प्रयास कर रहे है। उन्होंने कहा कि आश्वासन के दो वर्ष बाद भी केन्द्र सरकार ने लोकपाल नहीं लाये। वे इस यात्रा के माध्यम से लोगो को संगठित कर जगा रहे है। छह करोड़ लोगो को संगठित करूंगा, फिर जन लोकपाल लाने के लिए रामलीला मैदान में एकत्रित होंगे।

Share it
Top