Home > Archived > तिजोरी में रखा है सोना तो संभल जाइए, आरबीआई की है टेढ़ीं नजर

तिजोरी में रखा है सोना तो संभल जाइए, आरबीआई की है टेढ़ीं नजर

तिजोरी में रखा है सोना तो संभल जाइए, आरबीआई की है टेढ़ीं नजर


चालू खाता घाटे के लिए सोने के बढ़ते आयात को जिम्मेदार मानते हुए भारतीय रिजर्व बैंक ने घरों में पड़े 20 हजार टन सोने को लुभावनी योजनाओं के जरिए बाजार मे लाने की मुहिम शुरू की है।रिजर्व बैक की इस मुहिम को लेकर सर्राफा कारोबारियों और आम लोग अशंकित हैं। कारोबारियों का मानना है कि इससे देश में सर्राफा कारोबार तो प्रभावित होगा ही, सोने की तस्करी भी बढ़ेगी। आम लोग चिंतित है कि सरकार शायद इसके जरिए आयकर का दायरा बढाने की जुगत में है।देश मे कुल आयातित सोने का 60 प्रतिशत बैंकों के जरिए आयात किया जाता है। लिहाजा आरबीआई ने पहले बैंकों पर सोने के बदले ऋण देने पर पाबंदी लगाई। उसके बाद केंद्र और राज्य स्तर के सहकारी बैंकों को किसी भी रूप में सोने की खरीद के लिए ऋण नहीं देने का आदेश जारी किया और अब उसने वाणिज्यिक बैंकों द्वारा किए जाने वाले सोने के आयात पर अत्यधिक जरूरी परिस्थितियों में आंशिक प्रतिबंध लगाने के विकल्प पर भी विचार करना शुरू कर दिया है।मौजूदा शादी विवाह सीजन के मद्देनजर स्थानीय ग्राहकों की निचले स्तर पर लिवाली के चलते दिल्ली सर्राफा बाजार में आज दो दिन की गिरावट के बाद सोने और चांदी की कीमतों में सुधार दर्ज हुआ।

Share it
Top