Home > Archived > अपना इस्तीफा देने से पूर्व तृणमूल सांसद ने मांगा प्रधानमंत्री से इस्तीफा

अपना इस्तीफा देने से पूर्व तृणमूल सांसद ने मांगा प्रधानमंत्री से इस्तीफा

अपना इस्तीफा देने से पूर्व तृणमूल सांसद ने मांगा प्रधानमंत्री से इस्तीफा

नई दिल्ली | संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) की मुख्य सहयोगी तृणमूल कांग्रेस$img_title (टीएमसी) के प्रमुख आर्थिक निर्णयों को वापस लेने की मांग पर सरकार से बाहर होने की घोषणा के बाद बुधवार को यहां कांग्रेस कोर समिति की बैठक हुई. बैठक में राजनीतिक बदलावों पर चर्चा की गई. कांग्रेस कोर समिति की बैठक 7, रेस कोर्स रोड पर स्थित प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के आवास पर हुई. सुबह 10 बजे शुरू हुई बैठक में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी मौजूद थीं. इस बीच तृणमूल कांग्रेस के सांसद कुणाल घोष ने प्रधानमंत्री के इस्तीफे व ताजा जनादेश की मांग की. उन्होंने ट्विटर पर लिखा, "टीएमसी मंत्रियों का इस्तीफा स्वीकार करने से पहले प्रधानमंत्री को इस्तीफा दे देना चाहिए और उन्हें ताजा जनादेश हासिल करना चाहिए. फिर चाहे देश उनकी नीतियों को स्वीकृति दे अथवा नहीं." टीएमसी अध्यक्ष ममता बनर्जी ने मंगलवार शाम उनकी पार्टी के संप्रग सरकार से बाहर होने के फैसले की घोषणा की थी. इससे चार दिन पहले ही केंद्र सरकार ने स्थिर अर्थव्यवस्था की शुरुआत के मकसद से सुधारों की घोषणा की थी. ममता ने कहा कि तृणमूल के एक केंद्रीय व पांच राज्य मंत्रियों सहित छह मंत्री शुक्रवार को दिल्ली में प्रधानमंत्री को अपने इस्तीफे सौंपेंगे. ममता ने यह भी कहा है कि यदि सरकार बहु-ब्रांड खुदरा में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) पर अपने निर्णय को वापस ले, डीजल का बढ़ा हुआ दाम तीन रुपये कम करे व सब्सिडी वाले रसोई गैस सिलेंडरों की प्रति परिवार संख्या सालाना 12 कर दे तो वह अपने समर्थन वापसी के निर्णय पर दोबारा विचार करेगी. लोकसभा में तृणमूल के 19 सदस्य हैं. वह संप्रग के घटक दलों में दूसरी सबसे बड़ी पार्टी है. तृणमूल के इस निर्णय से 545 सीटों वाली लोकसभा में संप्रग सदस्यों की संख्या 273 से घटकर 254 हो जाएगी. सूत्रों ने बताया कि इस बीच संप्रग को अपने 22 सदस्यों के साथ बाहर से समर्थन दे रही समाजवादी पार्टी (सपा) गुरुवार को अपनी संसदीय पार्टी की बैठक कर रही है.


Share it
Top